News Description
अतिथि अध्यापकों ने किया प्रदर्शन, शहर बना रहा छावनी

महेंद्रगढ़: महेंद्रगढ़ में नियुक्ति की मांग को लेकर गत 60 दिन से धरना दे रहे अतिथि अध्यापकों ने रविवार को प्रदेश स्तरीय विरोध प्रदर्शन किया। अतिथि अध्यापकों के निर्धारित विरोध-प्रदर्शन को देखते हुए पुलिस प्रशासन ने सुबह ही शहर को पुलिस छावनी में तब्दील कर दिया। हर ओर पुलिस वाहन व पुलिसकर्मी ही दिखाई दिए। शिक्षामंत्री के आवास को जाने वाले सभी रास्तों को बेरिकेड्स लगाकर बंद कर दिया गया। इससे लोगों को आवागमन में अत्यधिक परेशानी का सामना करना पड़ा।

अतिथि अध्यापक विरोध प्रदर्शन में भाग लेने के लिए सुबह से ही हुड्डा पार्क के सामने एकत्रित होने आरंभ हो गए। दोपहर होते-होते सैंकड़ों की संख्या में अतिथि अध्यापक एकत्रित हो गए। अतिथि अध्यापकों के हुड्डा पार्क के सामने सड़क मार्ग पर दरी बिछाकर बैठने के कारण एक ओर का सड़क मार्ग अवरुद्ध हो गया। इस पर पुलिस व अतिथि अध्यापकों के बीच स्थिति तनावपूर्ण हो गई थी, लेकिन प्रशासन ने धैर्य से काम लेते हुए स्थिति को संभाला। प्रशासन की रणनीति भी शिक्षामंत्री के आवास पर अतिथि अध्यापकों को नहीं पहुंचने देने की थी। अतिथि अध्यापकों ने अपने उद्बोधन के माध्यम से शिक्षामंत्री एवं प्रदेश सरकार के प्रति खूब भड़ास निकाली। हरियाणा अतिथि अध्यापक संघ के पदाधिकारियों ने कहा कि प्रदेश सरकार एवं शिक्षामंत्री वायदा खिलाफी कर रहे हैं। दिल्ली जंतर-मंतर पर धरने के दौरान शिक्षामंत्री प्रो. रामबिलास शर्मा ने भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष के नाते पहुंचकर उन्होंने अतिथि अध्यापकों को एक कलम से नियमित करने का वायदा किया था। अनेक झूठे वायदे करके सत्तासीन हो गए।

वक्ताओं ने अतिथि अध्यापकों में जोश भरते हुए कहा कि वे नियमित होकर ही दम लेंगे। सेवाएं देते हुए उन्हें 12 वर्ष का लंबा समय गुजरने के बाद भी सरकार उनकी सुध नहीं ले रही। अब अतिथि अध्यापक और इंतजार नहीं करेंगे अब आरपार की लड़ाई लड़ेंगे और अपने हक लेकर रहेंगे।