News Description
यूरिया खाद मिलने से किसानों के चेहरे खिले

 नूंह : जिले के किसानों को यूरिया खाद की समस्या रविवार को कृषि विभाग के अधिकारियों ने दूर कर दी। विभागीय अधिकारियों ने अपनी निगरानी में रविवार को सोसायटी में किसानों को खाद बंटवाया। इससे किसानों के चेहरे खिले नजर आए। किसानों को 295 रुपये प्रति यूरिय बैग के हिसाब से खाद मुहैया कराया गया।

बता दें, कि एक सप्ताह से जिले में यूरिया खाद के लिए मारामारी हो रही थी। इस मामले में दैनिक जागरण ने शनिवार को प्रमुखता से प्रकाशित किया। मामला संज्ञान में आते ही कृषि विभाग के अधिकारी हरकत में आ गए। फिर रविवार को ही कृषि विभाग के अधिकारियों ने अपनी निगरानी में खाद वितरण कराया और किसानों को आश्वासन भी दिया कि जिले में खाद की परेशानी को दूर कर दिया गया है। इससे किसान खुश नजर आए। खेड़ला सोसायटी में खाद वितरण कराने में पहुंचे कृषि विभाग के एसडीओ डा. अजीत ¨सह ने बताया कि जिले में खाद की कमी को दूर कर दिया गया है। हमने खाद वितरण के लिए जिले में 141 सेल्स प्वाइंट बनाए हैं। जिनमें 75 प्राइवेट सेल्स प्वाइंट हैं। कुल 18000 मीट्रिक टन खाद मंगवाया गया है। इसमें से 15000 मीट्रिक टन खाद सरकारी सेल्स प्वाइंट व 3000 मीट्रिक टन खाद प्राइवेट सेल्स प्वाइंट पर भेज दिया गया है। उन्होंने बताया कि खाद की मांग को देखते हुए हमने 8000 मीट्रिक टन यूरिया खाद की मांग उच्च अधिकारियों के पास भेज दी है। अब ऐसे में जिले में खाद की समस्या नहीं रहेगी। उन्होंने कहा कि जिन प्राइवेट डीलरों से ब्लैक में अधिक दामों पर किसानों को यूरिया भेजा है, उनको चिन्हित किया जा रहा है। जल्द ही उनके पास नोटिस भी भेजे जाएंगे। इसके बाद उनके खिलाफ सख्त विभागीय कार्रवाई भी की जाएगी। उन्होंने कहा कि किसानों को सब्र से काम लेने की जरूरत है।

अधिक दामों पर ब्लैक में खाद को नहीं खरीदना चाहिए। जब खाद की कमी है जो उससे विभागीय अधिकारियों को अवगत कराना चाहिए। इसके साथ-साथ ब्लैक में खाद बेचने वाले प्राइवेट डीलरों की शिकायत कृषि विभाग को करनी चाहिए। ताकि समय रहते उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई अमल में लाई जा सके।