# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
मौसम में छाए कोहरे के साथ हुआ वर्ष का समापन

फरीदाबाद : दिसंबर माह निकल गया और मौसम से ठंड गायब थी, पर वर्ष के अंतिम दिन की शुरुआत कोहरे भरी सुबह से हुई। कोहरे के साथ-साथ हल्की-हल्की ठंडी हवाएं भी चल रही थी। इससे तापमान में भी दो से तीन डिग्री सेल्सियस की गिरावट आई। वहीं मौसम में ठंडक आने से किसानों ने भी राहत की सांस ली है।

रविवार की सुबह जब लोगों की आंख खुली और बाहर निकले, तो उन्होंने कोहरा पाया, हालांकि शहरी क्षेत्र में दृश्यता स्पष्ट थी और वाहन चालकों को आवागमन में कोई खास दिक्कत नहीं थी, सुबह नौ बजे के करीब सूर्य देव भी निकलते नजर आए, पर ग्रामीण क्षेत्रों में ज्यादा कोहरा पाया गया। हवाएं चलने से अधिकतम तापमान 23 डिग्री सेल्सियस व न्यूनतम 7 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया। गत वर्ष 31 दिसंबर के दिन अधिकतम तापमान 20 डिग्री और न्यूनतम 11 डिग्री था। जबकि पिछले चार दिनों की बात करें, तो तापमान 25 डिग्री रिकार्ड किया जा रहा था।इधर तापमान बढ़ने से किसान भी ¨चतित थे। किसान सूरजपाल भूरा चांदपुर, ओमवीर मोहना, प्रहलाद बांकुरा बहादुरपुर ने बताया कि दिसंबर-जनवरी महीने में खेती के नजरिए से धुंध और ठंड का होना बहुत जरूरी है, जिससे गेहूं की फसल में बढ़त फुटाव आसानी से हो सके। अभी तक ठंड नहीं पड़ रही थी, तो हमारी ¨चता बढ़ गई थी। इससे उत्पादन पर असर पड़ने की आशंका रहती है। कोहरा पड़ने से खेतों में पानी की कमी भी पूरी होती है। अब दिसंबर के अंतिम दिन कोहरा पड़ा है, तो आगे भी ठंड होने की उम्मीद जगी है।