News Description
केजीपी के निर्माण में जुटे कर्मचारियों से लूट

पलवल: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट केजीपी (कुंडली-गाजियाबाद-पलवल) एक्सप्रेस-वे के निर्माण में जुटी कंपनी के कर्मचारियों पर शनिवार की रात हथियारबंद आठ-दस बदमाशों ने हमला कर दिया। बदमाशों ने कर्मचारियों से मोबाइल फोन, गाड़ियों में डालने के लिए रखे डीजल को लूट ले गए और जेसीबी, पोपलेन, डंफर व निर्माण कार्य में लगी लगभग आधा दर्जन गाड़ियों को भी क्षतिग्रस्त कर दिया। कई कर्मचारियों को चोटें भी आई हैं।

डरे सहमे कर्मचारियों ने निर्माण कार्य को बंद कर दिया और मामले की जानकारी गायत्री प्रोजेक्ट लिमिटेड कंपनी के अधिकारियों को दी। सूचना मिलने पर रविवार को कंपनी के अधिकारी मौके पर पहुंचे और घबराए कर्मचारियों को समझा-बुझाकर निर्माण कार्य का शुरू कराया। कंपनी अधिकारियों ने मामले की शिकायत कैंप थाना पुलिस में दी है, पुलिस अब जांच में जुटी है।

केजीपी निर्माण कार्य कर रही गायत्री प्रोजेक्ट लिमिटेड कंपनी के करतार नागर ने पुलिस में दी शिकायत में कहा है कि शनिवार रात उनके कर्मचारी असावटा केजीपी हाईवे पुल के नजदीक हाईवे के निर्माण कार्य में लगे थे कि तभी असावटा निवासी राहुल, प्रवीण, राजू व रवि अपने आठ-दस साथियों के साथ लाठी-डंडा, रॉड व हथियारों से लैस होकर आए और उन्होंने केजीपी निर्माण को रोकने के लिए कहा। आरोपियों ने कर्मचारियों से नकदी की मांग की। मना करने पर उन्होंने सुपरवाइजर तिमराज के सर पर ग्रीस गन मारकर उसे घायल कर दिया, वहीं मशीन ऑपरेटर राजीव व गणेश के साथ भी मारपीट की और उनके मोबाइल फोन लूट लिये व गाड़ियों में डालने के लिए रखे डीजल को भी लूट ले गए।

उन्होंने धमकी दी कि वह इसी प्रकार उन्हें डीजल व मंथली देते रहें अन्यथा निर्माण कार्य को नहीं चलने देंगे और कोई भी कार्य करेगा तो उसकी इसी तरह से पिटाई की जाएगी। करतार नागर के आरोपियों ने आधा दर्जन गाड़ियों के शीशे भी तोड़ डाले।