News Description
सीएम के आश्वासन के बाद भी नहर में नहीं पहुंचा पानी

 भिवानी : मुख्यमंत्री की गई घोषणाओं के प्रति अधिकारी गंभीर नजर नहीं आ रहे हैं। घोषणाएं केवल कागजों तक ही सिमट कर रह गई हैं। भिवानी दौरे के दौरान मुख्यमंत्री से यहां के ग्रामीणों ने खेतों की ¨सचाई के लिए नहरी पानी की गुहार लगाई थी और कहा कि उनके यहां पर 30 वर्ष बीत गए लेकिन खेतों की ¨सचाई के पानी नहीं आया है। मुख्यमंत्री ने उनको आश्वासन दिया था कि 10 दिन के बाद उनके यहां पानी आ जाएगा लेकिन एक माह बीत गया नहर में पानी नहीं आया है। ग्रामीण ओमदत्त, संजय, पुरूषोत्तम, भोलूराम, रामबिलास, जयकिशन, रामधारी ने बताया कि गांव में पिछले 30 वर्ष से नहर में पानी नहीं आया है, जिसके कारण उनकी हजारों एकड़ भूमि बंजर भूमि में तब्दील हो गई है। ऐसे में अधिकतर गांव के किसानों की जमीनें भी बिक गई हैं। उनको भूखा मरने की नौबत आ गई है। वे अपनी समस्या को लेकर कई बड़े अधिकारियों, मुख्यमंत्री, प्रधानमंत्री यहां तक कि जब भी कोई गांव में बड़ा अधिकारी आता है तो वे उसके सामने भी हाथ जोड़कर पानी की ही गुहार लगाते हैं। भाजपा सरकार जब सत्ता में आई थी तो इसी वायदे के साथ आई थी कि वे हर टेल तक पानी पहुंचाएंगे लेकिन वो अपने इस वायदे को भूल चुकी है वो किसानों से किए गए सभी वादों को भूलकर झूठी वाहवाही लूटने में लगी हुई है। इस बारे में जब सरपंच दिनेश शर्मा से बात की गई तो उन्होंने कहा कि वे मुख्यमंत्री के समक्ष भी यह मुद्दा उठा चुके हैं। मुख्यमंत्री ने भी उनको कहा था कि दस दिन में पानी आ जाएगा लेकिन आज तक पानी नहीं आया है। अब अधिकारी ही मुख्यमंत्री की बातों को दरकिनार कर रहे हैं।