# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
स्टेट रजिस्ट्रार के आदेशों पर लगी रोक, बनी रहेगी मौजूदा कार्यकारिणी

बहादुरगढ़ :दीनबंधु सर छोटूराम धर्मशाला सोसायटी का वर्ष 2015 में हुआ चुनाव रद करने के स्टेट रजिस्ट्रार के फैसले पर रोक लग गई है। रजिस्ट्रार जनरल की ओर से इस फैसले से मौजूदा कार्यकारिणी ही सोसायटी का संचालन करेगी। अब दोनों पक्षों को सुनने के बाद ही अंतिम निर्णय होगा।

दरअसल, कुछ लोगों की ओर से शिकायत के बाद पिछले दिनों स्टेट रजिस्ट्रार द्वारा मई 2015 में हुए सोसायटी के चुनाव को गलत ठहराते हुए इसे रद करने और तीन माह के अंदर चुनाव कराने के लिए जिला रजिस्ट्रार को आदेश जारी किए गए थे। इसके खिलाफ सोसायटी की कार्यकारिणी से जुड़े पक्ष ने रजिस्ट्रार जनरल फर्म एंड सोसायटी के कार्यालय में अपील की। इसकी सुनवाई के बाद स्टेट रजिस्ट्रार के आदेश पर अगले निर्णय तक रजिस्ट्रार जनरल द्वारा रोक लगा दी गई है। इस सिलसिले में शनिवार को धर्मशाला में मीटिग बुलाई गई और सभी को इस फैसले से अवगत कराया गया। इस दौरान धर्मशाला के प्रधान सज्जान दलाल ने कहा कि कुल मिलाकर 10 व्यक्ति है जो पाच साल पहले दो साल तक धर्मशाला में अपनी चौधर चला चुके है। उन्हे अब नींद नहीं आ रही है। सच्चाई यह है कि इन लोगों को मौजूदा कार्यकारिणी के कार्य हजम नहीं हो रहे है। उन्होंने कहा कि आज कोई भी व्यक्ति धर्मशाला की व्यवस्था और धन के दुरुपयोग का आरोप नहीं लगा सकता क्योंकि ऐसा कुछ हुआ ही नहीं है। यदि एक रुपये की हेराफेरी साबित हो जाए तो सिर्फ मैं ही नहीं बल्कि पूरी कार्यकारिणी एक मिनट भी पद पर नहीं रहेगी। कुछ लोगों के मंसूबों पर इतना ही कहूगा कि विरोधी तो चौधरी छोटूराम के भी हुए थे। मौजूदा कार्यकारिणी 23 मई 2018 तक अपना कार्यकाल पूरा करेगी और इस्तीफे देने के बाद सोसायटी सदस्यों के बीच जाकर कार्यकाल का हिसाब-किताब दिया जाएगा। अगला निर्णय सदस्यों की सहमति से ही होगा।

बैठक में बलबीर छिल्लर, वीपी ढुल, रामफल मलिक, कृष्ण स्वरूप जून, हुकमचंद, जयप्रकाश देसवाल, बलबीर जून, रोहतास जून, ईश्वर कादयान, सुरजीत सिंह, सतीश, राजेश दलाल, चरण सिंह, जगदीश, पालेराम, रमेश छिल्लर, मौजीराम डागर, रणबीर आर्य, भगवान सिंह राठी, बलजीत आर्य व धर्मपाल खत्री मौजूद रहे।