News Description
डीसी बोले: ईक्कस में हाईवे पर हो रहे हादसों का समाधान ढूंढ़ेंगे

जींद : ईक्कस गांव में जींद-हिसार हाईवे पर लगातार हो रही मौतों पर शुक्रवार को ग्रामीणों ने उपायुक्त खत्री से मुलाकात की। ग्रामीणों ने कहा कि बीते कई सालों से गांव में सड़कों वाहनों की चपेट में आकर करीब 25 लोगों की मौत हो चुकी है और सैकड़ों पशु भी जान गंवा चुके हैं। डीसी ने आश्वासन दिया कि नेशनल हाईवे के अधिकारियों से बात करके जल्द समाधान निकालने की कोशिश करेंगे।

ईक्कस के सरपंच प्रतिनिधि हरपाल ¨सह के नेतृत्व में शुक्रवार सुबह लघु सचिवालय पहुंचकर उपायुक्त को ओवरब्रिज बनाने के लिए ज्ञापन सौंपा। गांव के पंच रणधीर ¨सह, तनवीर, रमेश पंच, सत्यवान पंच, धूप ¨सह, रणबीर ¨सह, सतबीर ¨सह ने कहा कि जींद-हिसार स्टेट हाईवे के एक तरफ गांव की बसासत है तो दूसरी तरफ जोहड़, स्कूल, पशु अस्पताल और डाइट संस्थान हैं। ऐसे में ग्रामीणों को सुबह-शाम पशुओं को पानी पिलाने के लिए सड़क पार करनी पड़ती है। इसी तरह बच्चों को भी सड़क पार कर स्कूल जाना पड़ता है। अब सड़क पर पूरा दिन वाहनों की लाइन लगी रहती है। तेज रफ्तार वाहनों की चपेट में आने से अब तक 20 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। यही नहीं, हर 15वें दिन एक पशु खराब हो जाता है और 120 से ज्यादा पशुओं की मौत हो चुकी है, जिससे किसानों को भारी नुकसान हो रहा है। डीसी ने ग्रामीणों को आश्वासन दिया कि वे नेशनल हाईवे से प्रोजेक्ट डायरेक्टर और पीडब्ल्यूडी के एक्सईएन से बात करके इसका कोई समाधान जरूर निकलवाएंगे।

--प्रशासन करे समाधान

जींद से हिसार और बरवाला जाने वाले मार्ग पर दिन-रात वाहन चलते रहते हैं। इनसे लगातार हादसे हो रहे हैं। ग्रामीण दो दशक से अंडरपास या ओवरब्रिज बनाने की मांग कर रहे हैं। प्रशासन को जल्द इस समस्या का समाधान करना चाहिए।

-हरपाल ¨सह, सरपंच प्रतिनिधि, ईक्कस

--किसानों को हो रहा नुकसान

चुनाव के सभी वोट मांगने के लिए गांव आने वाले नेताओं को जब उनकी मांग बताते हैं, तो सभी आश्वासन देते हैं कि जल्द उनका समाधान करवाएंगे। लेकिन आज तक किसी भी नेता ने ध्यान नहीं दिया। भविष्य में ऐसे नेताओं का विरोध करेंगे।

-धूप ¨सह, ग्रामीण, ईक्कस

गांव ईक्कस के लोग इस बारे में उनसे मिले थे। जींद-हांसी रोड फोरलेन बनना है। इसलिए एनएच के प्रोजेक्ट डायरेक्टर और पीडब्ल्यूडी के अधिकारियों से इस बारे में बात की जाएगी। गांव में जनहानि और पशुधन को नुकसान न हो, इसका समाधान निकाला जाएगा।