# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
भाजपा को कमजोर नहीं कर पाया बिखरा विपक्ष

रेवाड़ी: अहीरवाल का राजनीतिक गढ़ कहलाने वाले रेवाड़ी जिले में भाजपा की लोकप्रियता बेशक नहीं बढ़ पाई, लेकिन पार्टी व सरकार पर कोई ऐसा दाग भी नहीं लगा, जिससे बदनामी के छींटे झेलने पड़े हो। जनसंपर्क के मामले में वर्ष 2017 में सत्ता में होते हुए भी भाजपा ही सबसे आगे रही, जबकि बिखरा हुआ विपक्ष भाजपा को कमजोर नहीं कर पाया।

सत्तारूढ़ दल को सबसे बड़ी तारीफ नौकरियों के मामले में मिली। पारदर्शिता से नौकरी देकर भाजपा सरकार जमकर वाहवाही लूट रही है। पारदर्शिता के दावों में शत प्रतिशत नहीं तो काफी हद तक दम है। भाजपा को टक्कर देने की बजाय कांग्रेसी नेता जहां वर्ष भर आपस में ही लड़ते रहे, वहीं इनेलो भी कोई करिश्मा नहीं दिखा पाया। आम आदमी पार्टी व स्वराज इंडिया की टीम वर्ष भर सक्रिय रही, लेकिन अभी इन संगठनों को अधिक गंभीरता से नहीं लिया जा रहा है।

सरकार व संगठन दोनों स्तर पर वर्ष भर भाजपा सक्रिय रही। मुख्यमंत्री मनोहरलाल ने चार बार रेवाड़ी जिले का दौरा किया। सबसे पहले 25 फरवरी को केंद्रीय मंत्री राव इंद्रजीत ¨सह की मौजूदगी में बावल स्थित कृषि अनुसंधान केंद्र में जनसभा की और करोड़ों रुपये की परियोजनाओं का तोहफा दिया। पेयजल परियोजना व कृषि महाविद्यालय भवन के शिलान्यास सहित कई ऐसे विकास कार्यों का शुभारंभ किया, जिसने सरकार के काम को सराहना दिलाई। इसके बाद मुख्यमंत्री 18 मई को इंदिरा गांधी विश्वविद्यालय में पहुंचे। 2 जुलाई को ठठेरा समाज के सामूहिक विवाह सम्मेलन में शिरकत की। तीन व चार सितंबर को सीएम ने जांगिड़ समाज द्वारा आयोजित अपने अभिनंदन समारोह को संबोधित किया व नौ विकास परियोजनाओं का शिलान्यास-उद्घाटन किया। सुभाष बराला, रामबिलास शर्मा, ओमप्रकश धनखड़ व भाजपा के कई अन्य वरिष्ठ नेता भी वर्ष भर सक्रिय रहे।