# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
राष्ट्रव्यापी हड़ताल में भाग लेगी हजारों आशा वर्कर्स : सुरेखा

 फतेहाबाद हरियाणा की तमाम आशा वर्कर्स 17 जनवरी को ट्रेड यूनियनों के संयुक्त आह्वान पर राष्ट्रव्यापी हड़ताल में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेंगी और 18 जनवरी से अनिश्चितकालीन आंदोलन करेंगी। 18 जनवरी से जिला स्तर पर धरने देते हुए 30 जनवरी को जेल भरे जाएंगे। यह जानकारी आशा वर्कर्स यूनियन हरियाणा की राज्य महासचिव सुरेखा ने यहां आशा वर्कर्स यूनियन की जोनल कन्वेंशन को संबोधित करते हुए दी। सीआइटीयू नेता कामरेड रमेश जांडली ने कहा कि आशा वर्कर्स लंबे समय से अपनी मांगों के लिए आंदोलन कर रही हैं। इसके बावजूद सरकार आशाओं की मांगों पर ध्यान नहीं दे रही हैं। उन्हें वेतन देते समय स्वयंसेवी कहती हैं और रोज नए-नए काम आशाओं पर थोपे जा रहे हैं। इससे आशाओं में काफी गुस्सा है और अब आशा वर्कर आर-पार की लड़ाई लड़ने के मूड में हैं। यदि सरकार 30 जनवरी तक आशाओं की मांगों को नहीं मानती है तो वे और बड़ा आंदोलन करने को मजबूर होंगी। कन्वेंशन की अध्यक्षता फतेहाबाद जिला प्रधान एवं राज्य कमेटी सदस्य शीला ने की। शीला ने बैठक को संबोधित करते हुए कहा कि सरकार आशाओं को रोज नए-नए काम दे रही है और मानदेय महीनों तक नहीं दिया जाता, इससे आशा वर्कर्स में गुस्सा है। आशाओं के इस गुस्से का इजहार आगामी आंदोलन में होगा जिसमें राज्य की 22 हजार आशा हिस्सेदारी करेंगी। मी¨टग में यूनियन नेता अनिता, सुमन, कविता हिसार, सुलोचना अकांवाली, वीना सहनाल, ¨पकी भिरड़ाना आदि ने भी हिस्सेदारी की।