# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
रिश्वत लेते एसआइ को रंगे हाथ पकड़ा

फरीदाबाद: घर में घुसकर मारपीट व जान से मारने की धमकी के मुकदमे में नामजद विधवा महिला से नाम हटाने की ऐवज में एक लाख रुपये की रिश्वत मांगने वाले सूरजकुंड थाने में तैनात एसआइ सुरेश को स्टेट विजिलेंस टीम ने 50 हजार रुपये लेते रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया। टीम ने एसआइ को चाय के खोखे पर से गिरफ्तार किया है। विजिलेंस की इस कार्रवाई से पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया है। एसआइ के खिलाफ विजिलेंस ने भ्रष्टाचार निषेध अधिनियम की धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज कराया है। पुलिस आयुक्त डॉ. हनीफ कुरैशी ने एसआइ को निलंबित कर दिया है। वहीं उसकी विभागीय जांच के आदेश दे दिए हैं। डॉ. हनीफ कुरैशी ने बताया कि इस पूरे मुकदमे की जांच कराई जाएगी। मुकदमे में अधिकारियों की भूमिका की भी जांच होगी।

स्टेट विजिलेंस के एसपी हामिद अख्तर ने बताया कि सितंबर 2016 में गांव अनंगपुर में दो पक्षों में झगड़ा हो गया था। जिसमें पर¨वद्र खटाना की शिकायत पर पांच महिलाओं सहित 23 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ था। एसआइ सुरेश को जांच अधिकारी बनाया गया था। इस मामले में नामजद एक विधवा महिला का आरोप है कि उसका नाम बेवजह दर्ज कराया गया। वह मुकदमे में से अपना नाम हटाने के लिए परेशान थी। उसने गांव मझावली निवासी अपने दामाद रामरत्न से इसकी चर्चा की तो वह उसके लिए पैरवी में भागदौड़ करने लगा। काफी कोशिश के बाद भी बात नहीं बनी। आखिर में उसकी एसआइ सुरेश से बातचीत हुई। आरोप है कि सुरेश ने शुरू में दो महिलाओं (विधवा और उसकी देवरानी) के नाम हटाने की ऐवज में डेढ़ लाख रुपये मांगे थे। इसमें से एक लाख रुपये विधवा से मांगे थे। आखिर में एक लाख रुपये में डील हुई। यह रकम दो किस्तों में लेने के लिए एसआइ राजी हो गया। पहली किस्त के रूप में शुक्रवार को रामरत्न 50 हजार रुपये लेकर थाने पहुंचा। इससे पहले उसने विजिलेंस टीम को भी सूचित कर दिया था। जैसे ही उसने एसआइ को रुपये पकड़ाए, विजिलेंस की टीम ने एसआइ को वहीं दबोच लिया।

चाय की चुस्की लेते हुए बिछाया जाल:एसआइ को रंगे हाथ पकड़ने के लिए विजिलेंस ने चाय के खोखे पर बैठकर जाल बिछाया था। शिकायत मिलने के बाद विजिलेंस टीम के दो सदस्य तय समय पर साधारण कपड़ों में थाने के बाहर बने चाय के खोखे पर बैठ गए और चाय की चुस्की लेने लगे। जैसे ही रामरत्न ने एसआइ को रुपये दिए और वह जेब में रखने लगा। टीम ने तुरंत उसे दबोच लिया। अचानक हुई इस कार्रवाई से एसआइ हक्का बक्का रह गया। रिश्वत के लिए दिए गए रुपयों में खास तरह का पाउडर लगाया गया था। वह पाउडर एसआइ के हाथों में लग गया। विजिलेंस टीम ने घटना की वीडियोग्राफी कर अपने पास सुरक्षित रख लिया।