News Description
यूनियन कर्मी एक्सईएन का घेराव कर बनवाएंगे वेतन का चेक

 अंबाला : एचएसइबी वर्कर्स यूनियन का उत्तर हरियाणा बिजली वितरण निगम अंबाला (यूएचबीवीएन) के अधिकारियों को दिया गया अल्टीमेटम शुक्रवार को खत्म हो गया है। यूनियन नए साल की शुरुआत में अपनी मांग मनवाने के लिए नया तरीका अपनाने जा रही है अधिकारियों को उनके कार्यालय में कैद किया जाएगा। उसके बाद एक्सईएन से हड़ताल में शामिल सभी कर्मचारियों की सैलरी के चेक भी बनवाने की फिराक में हैं। इसीलिए मामला सुलझने की बजाए बिगड़ता जा रहा है और नया बिजली के उपभोक्ताओं की परेशानी 2 जनवरी से ज्यादा बढ़ने वाली है।

यूनियन के आह्वान पर सब डिविजन के बंद होने के बाद बिजली की किसी भी शिकायत का निवारण नहीं किया जाएगा। बिजली कर्मियों के पूर्ण रूप से काम छोड़ देने से अब दिक्कतें कम होने की बजाए बढ़ जाएंगी। बिजली के उपभोक्ताओं की फिलहाल दफ्तर में आने वाली शिकायतों का निवारण नहीं किया जा रहा है। लोग भटक रहे हैं और बिजली के बिलों को ठीक करने, उन्हें एडजस्ट करने के साथ-साथ नए मीटर लगाने की फाइलों के पिछले 13 दिन में ढेर लग गए हैं अब उपभोक्ता यूनियन की हड़ताल खुलने का इंतजार कर रहे हैं। शुक्रवार को 12 क्रॉस रोड पर स्थित एक्सईएन कार्यालय में दिए गए यूनिट स्तरीय धरने की अध्यक्षता यूनिट सचिव तरसेम राणा ने की। प्रधान रुपेश शर्मा ने कहा कि सब डिविजन नंबर एक, दो, बब्याल, केसरी और बराड़ा के साथ-साथ 220 केवी सब स्टेशन तेपला के कर्मी भी यूनियन के साथ खड़े हो गए हैं। शांतिपूर्वक धरने का अल्टीमेटम खत्म हो गया है और अधिकारियों द्वारा सुनवाई न होने से अब यह आंदोलन पूरे प्रदेश में फैल जाएगा। देवी प्रसाद भट्ट ने कहा कि बिजली निगम के डायरेक्टर एसके छिल्लर की कर्मचारी विरोधी नीतियां है और अंबाला छावनी के एक्सईएन भी कर्मियों के साथ ज्यादती कर रहे हैं।

दफ्तर रहे सूनसान

अंबाला छावनी एक्सइएन के साथ सभी सब डिविजन में कर्मचारी हड़ताल पर होने की वजह से कामकाज ठप रहा। हटाए गए कर्मियों के समर्थन और निलंबन के विरोध में डीसी रेट पर रखे गए कर्मी भी उतर आएं हैं। मंच संचालक एमएम पांडे ने कहा कि यूएचबीवीएन द्वारा की जाने वाले निलंबन, गैर हाजिरी और वेतन काटने से कोई कर्मी पीछे नहीं हटेगा और कर्मी अपने मांगों को लेकर इसी तरह डटे रहेंगे।