News Description
पानी से बचाने के लिए ठोस कार्य योजना तैयार करें : सुनीता वर्मा

जिला उपायुक्त सुनीता वर्मा ने सिंचाई विभाग के अधिकारियों को आदेश दिए कि सीवन, हरिपूरा, गुहणा व सांघण क्षेत्र के गांवों को बाढ़ के पानी से बचाने के लिए ठोस कार्य योजना तैयार करें। इन योजनाओं में आसपास के ग्रामीणों की सहमति के साथ खेती की फसलों को भी बाढ़ के पानी से बचाने के लिए हरिपुरा ड्रेन तथा सीवन डे्रन को तैयार किया जाए।

 सुनीता वर्मा आज सिंचाई विभाग के अधिकारियों के साथ बाढ़ के पानी से होने वाले नुकसान से बचाने के लिए बनाई जाने वाली हरिपुरा ड्रेन और सीवन डे्रन के निर्माण स्थलों का दौरा कर रहे थे। उपायुक्त ने बताया कि जिला के लिए 3 करोड़ 39 लाख 44 हजार रुपए की परियोजना जिला स्तरीय बाढ़ कमेटी के पास विचाराधीन है। इन परियोजनाओं में एक करोड़ 49 लाख 77 हजार रुपए की हरिपुरा डे्रन जो आरसीसी पाईप लाईन आरडी जीरो से 1500 का निर्माण किया जाना है, जिससे हरिपुरा, सांघण व मालखेड़ी के 500 एकड़ कृषि भूमि को बचाने के लिए तैयार की जाएगी। यह डे्रन आरडी 46738 कैथल डे्रन में डाली जाएगी। इसके अतिरिक्त 93 लाख 6 हजार रुपए की राशि से सीवन डे्रन का निर्माण किया जाएगा। आरसीसी पाईप लाईन की यह डे्रन आरडी 500 से 11000 का निर्माण किया जाएगा, जो सीवन व आसपास के खेतों को बाढ़ के पानी से होने वाले नुकसान के लिए बचाव का काम करेगी। गांव दाबन व आसपास के 750 एकड़ खेती भूमि को इस बाढ़ के पानी से बचाने में कारगर सिद्ध होगी तथा इसे सरस्वती डे्रन आरडी 19050 में डाली जाएगी। 

 उपायुक्त  सुनीता वर्मा ने माघोमाजरी ड्रेन, गुहणा लिंक माईनर का दौरा करते हुए इन आसपास के किसानो ं से भी सीधी मुलाकात की तथा सिंचाई विभाग के अधिकारियों के साथ किसानों से भी सुझाव मांगे, जिससे इन डे्रनों के निर्माण से आसपास के किसानों को किसी भी प्रकार की असुविधा से बचाया जा सके। उपायुक्त ने सिंचाई विभाग के इंजीनियर्स से भी अनुरोध किया कि फसलों के बचाव के लिए ऐसे रास्ते निकाले जाए, जिससे सभी किसानों की आम सहमति हो सकती है। बाढ़ बचाव के लिए क्रियान्वित की जाने वाली योजना में कपिलमुनि माईनर के आरडी 31 हजार पर स्थाई पंप का निर्माण किया जाना है, जिस पर साढ़े 7 लाख रुपए की राशि खर्च होगी। इसके साथ-साथ सिरसा ब्रांच आरडी 278000 आर पर भी स्थाई पंप स्थापित होगा, जिस पर 9 लाख 60 हजार रुपए खर्च किए जाएंगे। उपायुक्त ने मौके पर इन सभी परियोजनाओं के नक्शे व मौके पर स्थिति का जायजा लेने के बाद अधिकारियों को जरूरी दिशा-निर्देश जारी किए। 

अधीक्षक अभियंता  आरएस मित्तल ने बताया कि पापसर लिंक डे्रन के आरडी 13500 पर पुल का निर्माण किया जाएगा, जिस पर 11 लाख 70 हजार रुपए की धनराशि खर्च की जाएगी। इसके अतिरिक्त ऐसा ही पुल आरडी 21750 पर माघोमाजरी लिंक डे्रन पर निर्मित किया जाएगा। इस पुल के निर्माण पर 8 लाख 8 हजार रुपए की राशि खर्च की जाएगी।  माघोमाजरी लिंक डे्रन पर आरडी 10750 पर भी पुल का निर्माण किया जाएगा। इसके अतिरिक्त सिंचाई विभाग के मैकेनिकल सब डिविजन द्वारा 17 लाख 10 हजार रुपए से टाटा अल्ट्रा मशीन स्थापित की जाएगी। बाढ़ के पानी की निकासी के लिए 20 डीजल पंप बदले जाएंगे। इन पंपों पर 38 लाख 5 हजार रुपए की धनराशि खर्च की जाएगी। श्री मित्तल ने बताया कि जिला कैथल के लिए हरियाणा राज्य सुखा राहत व बाढ़ नियंत्रण बोर्ड द्वारा 49वीं मीटिंग में वर्ष 2018 के लिए बाढ़ से बचाव के लिए प्रस्तावित योजनाओं की मंजूरी दी गई है। ये कार्य सिंचाई विभाग द्वारा बाढ़ स्कीम हरिपुरा डे्रन व सीवन डे्रन के निर्माण से संबंधित शामिल होंगे। उन्होंने बताया कि उपायुक्त द्वारा क्षेत्रों का निरीक्षण के बाद इन बाढ़ बचाव की परियोजनाओं का शीघ्र ही कार्य शुरू कर दिया जाएगा।