News Description
अंतरराष्ट्रीय सरस्वती महोत्सव में लघु भारत के होंगे दर्शन : वाल्गद

कुरुक्षेत्र : सरस्वती हेरिटेज विकास बोर्ड के सीईओ श्रीकांत वाल्गद ने कहा कि पिहोवा में 18 से 22 जनवरी 2018 तक आयोजित होने वाले अंतरराष्ट्रीय महोत्सव में लघु भारत के दर्शन होंगे। इस महोत्स्व में पूरे देश से शिल्पकार क्राफ्ट मेले के माध्यम से अपने-अपने राज्यों की लोक कला से सभी को परिचित कराएंगे। इसके साथ-साथ महोत्सव में सरस मेले का भी आयोजन किया जाएगा। सरस मेले में लोगों को भी स्टॉल लगाने का अवसर मिलेगा।

सरस्वती हेरिटेज विकास बोर्ड के सीईओ श्रीकांत वाल्गद बृहस्पतिवार को उपायुक्त कार्यालय में महोत्सव की तैयारियों को लेकर अधिकारियों की एक समीक्षा बैठक को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि आदि बद्री व सिरसा से सरस्वती यात्रा विभिन्न जिलों से होकर सरस्वती महोत्सव पिहोवा में पहुंचेगी। 1100 बच्चों द्वारा एक साथ सरस्वती वंदना की जाएगी। सरस्वती महोत्सव में सरस्वती हेरिटेज बोर्ड की तरफ से एक प्रदर्शनी का भी आयोजन किया जाएगा। कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय में अंतरराष्ट्रीय सरस्वती सेमिनार का आयोजन भी किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि सरस्वती तीर्थ पर महोत्सव के दौरान आरती व भजन संध्या का आयोजन किया जाएगा। इस महोत्सव में अंतरराष्ट्रीय लोक कलाकार अपनी प्रस्तुतियां देंगे। महोत्सव स्थल पर हरियाणवी लोक कला को उजागर करता हुआ हरियाणा पैवेलियन स्थापित किया जाएगा। इस पैवेलियन में पारंपरिक हरियाणवी लोक गीतों से सरस्वती की महिमा का गुणगान किया जाएगा। महोत्सव के दौरान पिहोवा में वाल पें¨टग तथा विभिन्न प्रकार प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाएगा।

उपायुक्त सुमेधा कटारिया ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय सरस्वती महोत्सव से पूर्व सरस्वती तीर्थ का सुंदरीकरण किया जा रहा है। इसके साथ-साथ महोत्सव से पहले निरंतर जलप्रवाह लाने का पूरा प्रयास भी किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि लगभग ढाई करोड़ रुपये से सरस्वती तीर्थ स्थल का सुंदरीकरण किया जा रहा है। तीर्थ स्थल पर घाटों की रिपेय¨रग के साथ-साथ महिला घाट का पुनर्निर्माण किया जा रहा है। प्राची तीर्थ से कैलाश धाम तक लाइटों और चारदिवारी की व्यवस्था की जाएगी। तीर्थ स्थल पर महिलाओं व पुरुषों के लिए अलग-अलग शौचालय बनाएं जाएंगे।