News Description
सेल्समैन का हत्यारा दबोचा, हत्या में शामिल साथी को भी मौत के घाट उतारा

यमुनानगर : ससौली में शराब के ठेके पर हुई सेल्समैन की हत्या को डिटेक्टिव स्टाफ ने नौ दिन में सुलझा दिया। तीन में से एक हत्यारे करनाल के पटेड़ा गांव निवासी सन्नी को पाजूपुर पुल से गिरफ्तार कर लिया। उसके पास से एक पिस्टल व दो कारतूस भी बरामद हुए हैं।

हत्या में शामिल एक आरोपी पटेड़ा निवासी संदीप अभी फरार है। जबकि तीसरे साथी पंजाब के जिला रोपड़ के उसमानपुर गांव के भूपेंद्र ¨सह उर्फ बन्नी ¨सह को इन दोनों ने 20 दिसंबर को गोली मारकर मौत के घाट उतार दिया था। हत्या के बाद उसका शव आवर्धन नहर में फेंक दिया था। डिटेक्टिव स्टाफ ने आरोपी को कोर्ट में पेश कर रिमांड पर लिया है।

डिटेक्टिव स्टाफ के इंचार्ज जयपाल आर्य ने बताया कि उन्हें बुधवार रात मुखबिर से सूचना मिली थी कि पाजूपुर पुल के पास पिस्टल व कारतूस के साथ एक आरोपी घूम रहा है। उन्होंने तुरंत एएसआइ राजेश, महरूफ, धर्मपाल, निर्मल, कुलदीप, अनिल की टीम बनाकर मौके पर भेजी। टीम ने युवक को हिरासत में लेकर उसकी तलाशी ली। तलाशी के दौरान उसके पास से एक पिस्टल व दो कारतूस बरामद हुए। आरोपी ने कारतूस पिस्टल में लोड कर रखे थे। उसकी पहचान पटेड़ा गांव निवासी सन्नी के तौर पर हुई। पूछताछ में उसने बताया कि वो किसी वारदात को अंजाम देने की फिराक में था। उसे बृहस्पतिवार को कोर्ट में पेश कर पांच दिन के रिमांड पर लिया गया। ताकि उससे अन्य वारदातों के बारे में पूछताछ की जा सके।

सन्नी को गिरफ्तार कर पुलिस उसे डिटेक्टिव स्टाफ में ले आई। यहां पर उससे पूछताछ की गई तो सन्नी ने बताया कि उसने संदीप, भूपेंद्र ¨सह उर्फ बन्नी के साथ मिलकर ससौली में शराब ठेके पर विष्णु नगर की तारापुरी कॉलोनी निवासी 64 वर्षीय महेश कुमार बख्शी की हत्या की थी। उन्होंने सबसे पहले 15 दिसंबर की शाम ससौली में ठेका व करियाना दुकान की रेकी की थी। 17 दिसंबर को उन्हें वारदात को अंजाम देना था। लेकिन शाम को ससौली में पहुंचने में उन्हें देरी हो गई। जब वे पहुंचे तो करियाना की दुकान करने वाला अपनी दुकान बंद कर घर जा चुका था। सर्दी के कारण केवल ठेका ही खुला था।