# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
बीके अस्पताल में फिर बदली मां की गोद

 फरीदाबाद: जिला अस्पताल बादशाह खान में बच्चा बदलने का एक और मामला सामने आया है। बृहस्पतिवार को भी एक दंपती ने अस्पताल प्रशासन पर बच्चा बदलने का आरोप लगाया है। शिकायत मिलने पर एसजीएम नगर थाना पुलिस टीम मौके पर पहुंचकर जांच में जुटी गई।

गांव सेहतपुर निवासी अजय अपनी पत्नी सुधा गुप्ता को प्रसव पीड़ा होने पर दोपहर 12 बजे बादशाह खान अस्पताल में दाखिल कराया। 3 बजे सुधा को डिलीवरी रूम ले जाया गया। 3 बजकर 45 मिनट पर बच्चे को जन्म दिया। सुधा का कहना है कि बच्चा होने पर नर्स व डॉक्टर ने लड़का बताया। इतना ही नहीं डिलीवरी के दौरान मौके पर मौजूद नर्स से फार्म में भी लड़का लिखा। वार्ड में आने पर उनकी जेठानी संगीता व ननद अंजलि ने जब सुधा को बताया कि लड़की हुई है, तो वे आश्चर्य में पड़ गईं। इस बारे में सुधा ने पति अजय को बताया कि अंदर लड़का बताया था और अब लड़की बता रहे हैं। इसके बाद परिजनों ने अस्पताल में हंगामा कर दिया।

अजय ने बताया कि डॉक्टर व नर्स ने आनन-फानन में फार्म लिखा लड़का अक्षर पर मात्रा लगाकर लड़की बना दिया। सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस मामले की जांच कर रही है। परिजन बच्ची का डीएनए जांच कराने की मांग कर रहे हैं। उधर डॉक्टरों का कहना है कि डिलीवरी के दौरान गलती से लड़की की जगह लड़का लिख गया था। अस्पताल में तीन डिलीवरी हुई हैं। तीनों ही लड़की हैं।

अस्पताल में 12:30 बजे के बाद तीन डिलीवरी हुई हैं, तीनों लड़की हैं। बच्ची पैदा होने के कुछ समय बाद ही उसे सुधा गुप्ता की जेठानी संगीता को दिखा और लड़की होने की पुष्टि करने के बाद फाइल पर हस्ताक्षर भी किए हैं। बच्चा बदलने का आरोप बिलकुल बेबुनियाद है। अगर परिजन डीएनए कराना चाहते हैं, तो उसका भी प्रबंध कर दिया जाएगा।