News Description
3 सालों में भी परवान नहीं चढ़ी नई अनाज मंडी की घोषणा

 सिरसा : जिला के लिए नई अनाज मंडी बनाए जाने की घोषणा को 3 साल बीत गए लेकिन अभी तक यह घोषणा सिरे भी नहीं चढ़ पाई है। हालांकि एडिशनल मंडी के लिए उपयुक्त भूमि की तलाश के बाद प्रपोजल की फाइल सीएम कार्यालय में जा चुकी है, लेकिन अभी तक वहीं अटकी हुई है।

सिरसा व ऐलनाबाद में एडिशनल मंडी बनाए जाने के लिए 3 वर्ष पूर्व, मुख्यमंत्री ने 20 जुलाई 2015 को घोषणा कर दी। जिसके पश्चात मार्के¨टग बोर्ड की तरफ से सरकार के पास बाईपास स्थित बरनाला रोड के लिए जगह का सुझाव भेजा और इसके लिए एक कमेटी का गठन भी किया गया। इस प्रक्रिया को 22 माह बीत गए है, जिसकी फाइल अभी तक मुख्यमंत्री की मंजूरी मिलने की बाट जोह रही है। ज्ञात हो कि बाईपास रोड स्थित चत्तरगढ़पट्टी से नेजाडेला रोड पर करीब 150 एकड़ जगह का चयन किया गया। लेकिन मंडी के लिए कितनी जगह ली जाएगी इसका अंतिम निर्णय मुख्यमंत्री की मंजूरी मिलने के बाद ही पता चला पाएगा।

सिरसा शहर की मंडी मौजूद समय में करीब 40 एकड़ में बनी हुई है। आज अनाज की आवक को देखते हुए मंडी की क्षमता कम हो चुकी है और जगह भी पर्याप्त नहीं है। इसी बात को लेकर नई मंडी की मांग उठने लगी है।

वर्ष 1957 में 23 एकड़ भूमि में शहर में अनाज मंडी बनाई गई थी। उस दौरान इसमें केवल 4 हजार ¨क्वटल गेहूं की आवक ही होती थी। इसके पश्चात 1978 में पांच एकड़ और 2.7 एकड़ में एडिशनल अनाज मंडी पार्ट 2 तथा 3 भी बना दिया गया। उसी तरह 14 एकड़ में कपास मंडी बनाई गई। आज मौजूदा समय में आवक को देखते हुए मंडी की जगह पर्याप्त नहीं है। क्योंकि जिला में 1 करोड़ क्विटल से अधिक गेहूं की आवक होती है। वहीं 30 लाख ¨क्वटल से अधिक धान व 20 लाख ¨क्वटल के आसपास कॉटन की आवक होती है।