# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
अंतरराज्यीय रूटों पर लंबी दूरी की बसों के संचालन पर रोक हटी

रेवाड़ी: रोडवेज प्रबंधन ने अंतरराज्यीय रूटों पर लंबी दूरी की बसों के संचालन पर लगाई रोक हटा ली है। हड़ताल के मद्देनजर बुधवार को परिवहन मंत्री के साथ हुई यूनियनों के प्रतिनिधिमंडल की वार्ता में इस बात को प्रमुखता से उठाया गया था जिसके बाद हरकत में आए प्रबंधन ने तुरंत प्रभाव से बसों के संचालन पर लगाई गई रोक को हटाने से संबंधित पत्र जारी कर दिया गया है।

रोडवेज प्रबंधन की तरफ से अंतरराज्यीय रूटों की लंबी दूरी की बसों का बंद किए जाने का न केवल राजस्व का नुकसान उठाना पड़ा था अपितु नवंबर माह के दौरान लगभग डेढ़ लाख किलोमीटर कम बसों का संचालन हुआ। रेवाड़ी डिपो की बसें हर माह लगभग 36 लाख किलोमीटर चलती है जिससे हर माह लगभग साढ़े 3 करोड़ रुपये से भी अधिक की आमदनी होती है। रेवाड़ी डिपो का सबसे अधिक राजस्व दिल्ली-जयपुर, रेवाड़ी-चंडीगढ़, रेवाड़ी-जयपुर, रेवाड़ी-अलवर-बालाजी, रेवाड़ी-बैजनाथ, रेवाड़ी-जम्मू-कटड़ा, रेवाड़ी-अजमेर के साथ नारनौल, महेंद्रगढ़ रूटों से होती है। प्रबंधन की तरफ से लंबे रूटों पर बसों को बंद किए जाने के बाद रेवाड़ी डिपो की दिल्ली-जयपुर के बीच चलने वाली लगभग 20 से अधिक बस बंद होने के साथ अजमेर, जम्मू-कटड़ा, अलवर-बालाजी तथा अजमेर के लिए बसों का संचालन बंद कर दिया।

इन बसों के संचालन के बंद होने के बाद नवंबर माह के दौरान डिपो की बसों का संचालन लगभग डेढ़ किलोमीटर कम हुआ है जिससे डिपो को बड़े राजस्व से वंचित होना पड़ा। हालांकि दिसंबर माह के दौरान कुछ रूटों पर बसों का संचालन प्रारंभ कर दिया गया लेकिन अभी जम्मू-कटड़ा, शिमला, अजमेर, अलवर-बालाजी का संचालन नहीं किया गया तथा इनका संचालन प्रारंभ होने के बाद डिपो को जो नुकसान हो रहा था उसकी भरपाई होना संभव हो जाएगी।