News Description
न्यू ब्रांड के पैसे लेकर कंपनी शोरूम ने ग्राहक को थमा दी सेकेंड हैंड कार

होंडा कार इंडिया लिमिटेड के शहर मॉडल टाउन स्थित किशव मोटर्स प्राइवेट लिमिटेट, एलिगेंट होंडा शोरूम संचालकों पर एडवोकेट बलबीर ¨सह जसपाल ने ब्रांड न्यू कार के पैसे लेकर सेकेंड हैंड कार थमाने का आरोप लगाया है। डब्ल्यूआरवी कार की पहली सर्विस कराने पहुंचे एडवोकेट को जॉब कार्ड में वाहन मालिक के कालम में पत्नी चरणजीत कौर के स्थान पर जब विशाल ठाकुर का नाम छपा दिखा तब विवाद शुरू हुआ। संचालकों से संतोषजनक जवाब न मिलने पर उन्होंने मॉडल टाउन चौकी में शिकायत दी। पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी।

एडवोकेट बलबीर ¨सह जसपाल ने 4 दिसंबर को अपनी पत्नी चरणजीत कौर कौर के नाम पर कंपनी शोरूम से डब्लयूआरवी कार फाइनेंस कराई। 10.15 लाख मूल्य की कार के लिए शहर कोर्ट रोड स्थित एसबीआइ से चार लाख रुपये का लोन लिया। तीन लाख रुपये मूल्य की पुरानी वेंटो कार दी, दो लाख रुपये चेक से तथा 1.15 लाख रुपये नकद में भुगतान किए। 27 दिसंबर को शोरूम में कार की पहली सर्विस कराने बलबीर ने जॉब कार्ड बनवाया। स्टाफ को कार के होर्न, फ्रंट लाइट में फाग तथा पीछे के हिस्से में लगी स्टील ग्रिप में दिक्कत बताई।

सर्विस के बाद मिली इनवायस नंबर एसआर 12417-5184 में भी विशाल ठाकुर ही छपा था। इसके अनुसार 30 अक्टूबर को यह कार सेल हुई, उसी दिन से वारंटी भी स्टार्ट हुई थी। जसपाल के अनुसार जब उन्होंने कंपनी में बातचीत की तो संचालक ने कहा कि वे कुछ नहीं कर सकते। कोई हल न निकलने के बाद कंपनी के खिलाफ ठगी, अमानत में खयानत व अन्य आरोपों में शिकायत देकर कार्रवाई की मांग की। जसपाल ¨सह के मुताबिक उन्होंने शोरूम संचालकों से मांग की है कि या तो वे नई कार दें या फिर शोरूम से बाहर आने के बाद कितनी कीमत कम हो जाती है, उतने अंतर का भुगतान करें। उधर, शोरूम संचालक दारा ¨सह विर्क ने नई कार के पैसे लेकर पुरानी कार देने के तमाम आरोपों को सिरे से नकारा है। उन्होंने बताया कि कंपनी का टारगेट पूरा करने के लिए कुछ कारों की इनवायस पहले काट ली गई थी। बलबीर ¨सह जसपाल को ब्रांड न्यू कार दी गई है। कुछ गलतफहमी हो रही है, जिसे दूर कर दिया जाएगा। मॉडल टाउन चौकी इंचार्ज एएसआइ सुरेश कुमार के अनुसार शिकायत में नई की जगह सेकेंड हैंड कार देने के आरोपों की जांच जारी है। देर शाम तक दोनों पक्षों के अपने स्तर पर समझौते के प्रयास जारी थे।