# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
22 गांवों के उपभोक्ताओं को बिजली समस्या से मिलेगी निजात

 हथीन: खंदावली फीडर पर पड़ने वाले 22 गांवों के हजारों उपभोक्ताओं को बहुत जल्द अघोषित बिजली कटों से निजात मिलेगी, क्योंकि हरियाणा विद्युत प्रसारण ने 22 गांवों के लोड को कम करने के लिए अलग से फीडर बनाने की योजना बनाई है। इस योजना के तहत 22 गांवों का लोड कम होगा। योजना पर विभाग की तरफ से काम शुरू कर दिया गया है।

हथीन 66 केवीए सब स्टेशन से जुड़े खंदावली फीडर पर 22 गांव पड़ते हैं। इनमें मलाई, अलालपुर, भीमसीका, ढकलपुर, गुलेशरा, जलालपुर, धीरंकी, पहाडपुर, खंदावली, कुकरचाटी, लखनाका, बाबूपुर, मनकाकी, लडमकी, हुंचपुरी कला, हुंचपुरी खुर्द, महलूका के अलावा कई गांव शामिल हैं। इस फीडर पर 300 एम्पीयर लोड है। फीडर ओवर लोड होने के कारण आए दिन फाल्ट होना आम बात है। लाइनें जर्जर हैं और ओवर लोड होने के कारण आए दिन तारें टूटती रहती हैं, जिससे गांवों की कई-कई घंटे बिजली बाधित रहती है। विभाग के अधिकारिक सूत्रों के मुताबिक ओवर लोड होने के कारण एक साथ फीडर को चालू करने में काफी कठिनाई होती है। इसलिए इस फीडर पर सर्किट काटकर अलग गांवों के ग्रुपों में बिजली सप्लाई होती है। सर्दियों में यह लोड ज्यादा ही बढ़ जाता है। इसी कारण हजारों उपभोक्ताओं को एक साथ बिजली देना मुश्किल है।

उपभोक्ताओं की इस समस्या से निजात पाने के लिए विभाग ने खंदावली फीडर से कुछ गांवों को अलग करके नया फीडर बनाने का कार्य शुरू किया है ताकि लोड को बांटकर उपभोक्ताओं को सुचारु रूप से बिजली मिल सके। यह कार्य लगभग तीन माह के अंदर पूरा होने का दावा किया जा रहा है। विभाग की इस खबर से संबंधित गांवों के उपभोक्ताओं में खुशी है।