News Description
संभावित बाढ़ से बचाने के लिए अधिकारियों ने लिया नदियों का जायजा

यमुनानगर : ¨सचाई विभाग ने वर्ष-2018-19 तक तहत करवाए जाने वाले बाढ़ बचाओ कार्यों की शुरुआत कर दी है। मंगलवार को ¨सचाई विभाग के अधिकारियों व क्षेत्र के मौजिज लोगों ने साढौरा क्षेत्र में मारकंडा व अन्य नदियों का जायजा लिया और उन स्थानों को चिन्हित किया जहां पर कार्य करवाए जाने हैं। क्षेत्र में करीब दो करोड़ रुपये की लागत से चार जगह कार्य करवाए जाने हैं। नदियों के पानी से होने वाले भूमि कटाव व बाढ़ से बचाने के लिए स्टड बनाए जाएंगे।

बारिश के दिनों बाढ़ के कारण के कई गांव बुरी तरह प्रभावित होते हैं। संघोली, लाहड़पुर डुम्मावाला, पीरवाली, जफ्फरपुर जाफरी सहित अन्य कई गांवों में नदियों का पानी घुसने की संभावना बनी रहती है। संभावित बाढ़ के मद्देनजर इस बार दिसंबर माह में ही शुरुआत कर दी है। विभागीय अधिकारियों के मुताबिक समय रहते सभी कार्यों को निपटा लिया जाएगा और उन क्षेत्रों में पर विशेष रूप से ध्यान दिया जाएगा जहां कटाव की संभावना अधिक रहती है।

मिनेंट पर्सन पवन सैनी, सुरेश कुमार, मदन लाल आर्य नरेश कुमार कहना है कि क्षेत्र के दो वर्ष पहले क्षेत्र में बाढ़ से बचाने के लिए नदियों पर जो कार्य ¨सचाई विभाग द्वारा करवाए गए थे, उनका काफी लाभ हुआ है। करीब 200 एकड़ एरिया कटाव होने से बच गया है। अब यहां अच्छी फसलें खड़ी हैं। इस बार भी क्षेत्र में समय पर कार्य पूरे हो जाने जरूरी हैं ताकि बाढ़ के कारण नुकसान न हो। उनका कहना है कि क्षेत्र में बाढ़ के कारण दर्जनों गांव प्रभावित हो जाते हैं।