# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
फर्जी सर्टिफिकेट मामला : चार गांवों के सरपंचों को बर्खास्त करने की मांग, किया प्रदर्शन

फतेहाबाद : फर्जी सर्टिफिकेट के आधार पर सरपंची के चुनाव जीतने वाले सरपंचों की बर्खास्तगी की मांग को लेकर चार गांवों के ग्रामीण बुधवार को लघु सचिवालय पहुंचे और प्रशासन से जल्द से जल्द कार्रवाई की मांग की। इससे पहले ग्रामीणों ने लघु सचिवालय पर निलंबन की मांग को लेकर प्रदर्शन भी किया। ग्रामीणों ने बताया कि जिले के 12 सरपंचों पर ऐसे केस सामने आए थे, जिसमें 7 सरपंचों को निलंबित कर दिया गया है। दैयड़, नहला, रूपांवाली, बैजलपुर के सरपंचों के भी फर्जी सíटफिकेट हैं, बावजूद इसके 4 सरपंचों को सस्पेंड नहीं किया जा रहा।

शिकायतकर्ता दैयड़ निवासी रोहताश ने बताया कि इन पंचायतों के मामले पहले हाईकोर्ट और फिर सुप्रीम कोर्ट से निबट चुके हैं, जिसके बाद फाइल बीडीपीओ के पास आई और बीडीपीओ ने रिपोर्ट डीसी को सौंप दी। रोहताश ने शिकायत में बताया कि 17 जनवरी 2016 को गांव दैयड़ में सरपंच पद के लिए जो चुनाव हुआ उसमें फर्जी सर्टिफिकेट लगाकर चुनाव जीता। आरटीआइ से मिली जानकारी में इसका खुलासा हुआ था। डीडीपीओ फतेहाबाद ने फाइल मंगवा कर जो जांच की तो सर्टिफिकेट फर्जी पाया गया। डीडीपीओ ने फाइल डीसी फतेहाबाद को 22 सितंबर को फाइल मार्क कर दी। डीसी ने सरपंच सिलोचना को कारण बताओ नोटिस जारी कर दिया था। सरपंच ने कोर्ट से स्टे ले लिया। उसके बाद 8 अक्टूबर को स्टे खारिज हो गया। उसके बाद से डीसी तारीख देते जा रहे हैं। फैसला अभी तक नहीं दिया है। फाइल का फैसला 12 जनवरी 2018 दी गई है। मामले का फैसला जल्द दिया जाए नहीं तो 9 जनवरी को दैयड़, नहला, बैजलपुर तथा रूपांवाली के ग्रामीण धरने पर बैंठेगे और जब तक फैसा नहीं होगा तब तक नहीं उठेंगे। चारों गांव का केस डीसी की कोर्ट में विचारधीन है।