# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
HTET में NCTI के पैटर्न से नहीं पूछे प्रश्न, शिक्षा मंत्री के निवास का करेंगे घेराव

 रोहतक : एचटेट के परीक्षार्थियों ने आरोप लगाते हुए बताया कि 23 और 24 दिसंबर को हुई परीक्षा में एनसीटीई के पैटर्न के हिसाब से प्रश्न नहीं पूछे गए। साथ ही, बताया कि परीक्षा कठिन थी क्योंकि इसमें एचटेट की बुलेटिन में निर्धारित सिलेबस के अनुसार 12वीं के स्टैंडर्ड तक का प्रश्न पूछा जाना चाहिए था लेकिन पीएचडी और प्रशासनिक सेवाओं की परीक्षा के स्तर का प्रश्न पूछा गया। इसलिए अब परीक्षार्थियों ने शिक्षा मंत्री और मुख्यमंत्री के निवास का घेराव करने का प्लान बनाया है। बताया जा रहा है कि मंत्रियों के पास से सुनवाई न होने के बाद वह कोर्ट की शरण लेंगे। हालांकि अभी इस मामले में उन्होंने एनसीटीई में भी शिकायत की हुई है।

हुडा सिटी पार्क में बुधवार को हुई बैठक में फाइन आ‌र्ट्स एसोसिएशन के सदस्य और एचटेट की परीक्षा देने वाले परीक्षार्थियों ने बताया कि सरकार ने खुद के नियमों को ही ताक पर रखकर एनसीटीई सिलेबस पैटर्न व नियमों के विरूद्ध जाकर परीक्षा करवाई। उन्होंने बताया कि 23 दिसंबर 2017 को आयोजित पीजीटी लेवल तीन की एचटेट परीक्षा कठिन थी। इसमें सिलेबस से बाहर के पाठ्यक्रम को सरकार द्वारा जानबूझकर शामिल किया गया। उन्होंने बताया कि पेपर का लेवल स्कूल लेवल के हिसाब से बहुत ऊपर था जबकि एचटेट बुलेटिन 2017 के अनुसार उक्त परीक्षा में 12 वीं कक्षा तक का सिलेबस ही शामिल होता है।