# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
रेलवे बोर्ड की मंजूरी के लिए जाएगा डबल फाटक का प्रस्ताव

 रेवाड़ी: शहर के डबल फाटक पर प्रस्तावित अंडरपास के निर्माण में अभी कुछ और देरी हो सकती है। अंडरपास का प्रस्ताव टेंडर होने से पहले रेलवे बोर्ड की मंजूरी के लिए भेजा जाएगा। दो दिन पहले स्थानीय सांसद व केंद्रीय योजना एवं उर्वरक राज्यमंत्री राव इंद्रजीत ¨सह ने डीआरएम सहित रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ इस प्रस्ताव पर मंथन किया।

राव ने इस प्रस्ताव को जल्द से जल्द सिरे चढ़ाने के आदेश दिए हैं। डीआरएम व अन्य अधिकारियों के साथ हुई मी¨टग में रेलवे से जुड़ी स्थानीय महत्व की अन्य परियोजनाओं पर भी विचार विमर्श किया गया। अंडरपास का निर्माण अब 18 करोड़ की लागत से होगा, जिसमें आधा खर्च राज्य सरकार व आधा खर्च रेलवे वहन करेगी।

डबल फाटक अंडरपास है बेहद महत्वपूर्ण

डबल फाटक अंडरपास शहर के लिए बेहद महत्वपूर्ण है। अंडरपास निर्माण के लिए फाटक पार के लोग लंबे समय से संघर्ष कर रहे हैं। यहां बता देना जरूरी है कि फाटक पार शहर की एक चौथाई आबादी रहती है। यहां रहने वाले लोगों को रोजाना भारी मशक्कत का सामना करके अपने घरों तक जाना पड़ता है। स्थानीय लोग हस्ताक्षर अभियान से लेकर धरना तक दे चुके हैं। लगातार संघर्ष कर रहे लोगों की अब सुनवाई होनी शुरू हुई है।

रेलवे व लोकनिर्माण विभाग की ओर से मिलकर डबल फाटक अंडरपास का खर्च वहन किया जाएगा। अंडरपास के लिए कागजी कार्रवाई अब अंतिम चरण में है। केंद्रीय मंत्री राव इंद्रजीत ¨सह की डीआरएम सौम्या माथुर सहित अन्य अधिकारियों के साथ हुई बैठक में स्पष्ट हो गया है कि अंडरपास के प्रस्ताव को टेंडर होने से पूर्व रेलवे बोर्ड की मंजूरी के लिए भेजा जाएगा