# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
अस्पताल खुला तो दम तोड़ती दिखीं कई व्यवस्थाएं

 पलवल: जिला नागरिक अस्पताल में मरीज उपचार के लिए आते हैं, ताकि जल्दी से स्वस्थ हो जाएं। लेकिन मरीजों के लिए कई बार सेवाएं मिलने में देरी ही परेशानी का कारण बन जाती है। अस्पताल में पहले की अपेक्षा सुधार तो हुआ है। डॉक्टरों की संख्या में भी वृद्धि हुई, पर अब भी और सुधार किए जाने की जरूरत है। बुधवार को चार दिन के अवकाश के बाद अस्पताल खुला तो कई व्यवस्थाएं दम तोड़ती दिखीं। पंजीकरण खिड़की पर घंटों के इंतजार के बाद जब पर्ची बनी तो कहीं डॉक्टर कमरों में नहीं थे। आंखों के डॉक्टर के बाहर खड़े मरीजों का कहना था कि इंतजार में आंखे भी पथरा गई हैं। दैनिक जागरण संवाददाता ने व्यवस्थाओं का जायजा लिया,

चार दिन की छुट्टी के बाद अस्पताल खुलने के बाद पंजीकरण खिड़की पर नजारा परेशान करने वाला था। सुबह नौ बजे से अस्पताल में ओपीडी शुरू हो जाती है। ओपीडी के लिए सबसे पहले मरीज को कार्ड बनवाना पड़ता है। खिड़की खुलने से पहले की मरीज लाइन में लगे दिखाई देते हैं और दिन चढ़ने के साथ ही लाइन लंबी होनी शुरू हो जाती है। लाइन में लगे मरीजों ने शिकायत की कि उनका एक से डेढ़ घंटे में नंबर कार्ड बनवाने में ही आता है। बुधवार को भी कमोबेश ऐसे ही हालात थे।