News Description
समान काम-समान वेतन की मांग को लेकर इंस्ट्रक्टर्स का प्रदर्शन

पंचकूला : राजकीय महाविद्यालयों में पिछले सात वर्षो से कार्यरत कंप्यूटर इंस्ट्रक्टर एवं अटेंडेंट ने बुधवार को पंचकूला में जोरदार प्रदर्शन किया। धरना स्थल सेक्टर 5 से बड़ी संख्या में कंप्यूटर इंस्ट्रक्टर एवं अटेंडेंट्सं ने सीएम आवास की ओर कूच किया। इस दौरान भारी पुलिस बल भी तैनात था। जैसे ही यह इंस्ट्रक्टर एवं अटेंडेंट हाउसिंग बोर्ड चौक पर पहुंचे, तो चंडीगढ़ पुलिस ने इन्हे रोक दिया। जहां पर यह प्रदर्शनकारी धरना देकर बैठ गए।

धरना दोपहर बाद करीब साढ़े 12 बजे से लेकर साढ़े तीन बजे तक लगाया। तीन घंटे तक प्रदर्शनकारियों का गुस्सा देखते हुए प्रशासन की ओर से चार सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल को मुख्यमंत्री निवास पर ले जाया गया। जहां पर इनकी मुलाकात मुख्यमंत्री के ओएसडी भूपेश्वर दयाल से करवाई गई। मुलाकात के बाद उच्चतर शिक्षा विभाग की प्रधान सचिव ज्योति अरोड़ा से भी वार्ता की, जिसमें उन्होंने सभी मुद्दों को जल्द सुलझाने का आश्वासन दिया गया। इस अवसर पर अनुराग चहल, कमल यादव, सुनील, प्रिया, आशु अग्रवाल राजेश, विनोद, विकास, कुलदीप अरोड़ा, अमित, सुशीला, शिवानी, भूपेंद्र, चेतना, ममता, सीमा, जसविंदर एवं संजीव ने सरकार को चेतावनी दी कि यदि उनकी मागे नहीं मानी गई तो यह प्रदर्शन और तेज कर दिया जाएगा।

11 दिसंबर से शुरू हुए इस अनिश्चितकालीन धरने में समान काम-समान वेतन को लेकर कंप्यूटर इंस्ट्रक्टर एवं अटेंडेंट अपनी मागों को लेकर आवाज बुलंद कर रहे हैं, परंतु सरकार एवं विभाग की ओर से अब तक इनकी कोई सुध नहीं ली गई है। जबकि अन्य विभाग में समकक्ष कर्मचारियों को समान काम समान वेतन का लाभ दिया गया है। कार्मिक अनशन के बारे में जानकारी देते हुए अमित पहल ने बताया कि अब हर रोज धरना स्थल पर पाच अनशनकारी बैठ रहे है। आंदोलनकारियों का कहना है कि अगर क्रमिक अनशन के बाद भी सरकार ने उनकी मागे नहीं मानी तो क्रमिक अनशन आमरण अनशन में तब्दील कर दिया जाएगा