# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
एनएसएस शिविर में पौधे लगाने के लिए किया प्रेरित

एनएसएस शिविर के दौरान मंगलवार को स्वयंसेवकों ने पर्यावरण सरंक्षण के प्रति जागरूक अभियान चलाया। राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय जुंडला में आयोजित 7 दिवसीय एनएसएस कार्यक्रम के अधिकारी सुशील वशिष्ठ एवं सुनीता नरवाल ने बताया कि इस शिविर का मुख्य उद्देश्य पर्यावरण एवं प्राकृतिक संसाधनों की सुरक्षा व सांस्कृतिक , एतिहासिक धरोहरों की देखरेख व सुरक्षा करना है। स्वयंसेवकों को संबोधित करते हुए कहा कि हमें अपने जीवन में ऐसे काम करने चाहिए। जिससे दूसरों को लाभ मिल सके। इस दौरान समाज में फैली बुराईयों को खत्म करने का संकल्प लिया गया। कार्यक्रम में घटते भू-जल स्तर, वन सम्पदा, पर्यावरण प्रदूषण, ग्लोबल वार्मिंग जैसी गंभीर समस्याओं पर विचार-विमर्श किया गया। पृथ्वी और प्रकृति आने वाली पीढि़यों की धरोहर है। इसकी रक्षा करना प्रत्येक नागरिक का नैतिक कर्तव्य है। प्राध्यापक चंद्रलाल ने स्वयंसेवकों से पर्यावरण सरंक्षण का आह्वान करते हुए अधिक से अधिक पौधे लगाने के लिए प्रेरित किया। इस अवसर पर स्वयंसेवक ज्योति, सुनीता, अंजलि, सचिन, जगतार, केशव, रवि, विकास व संगीत ने विशेष रूप से अपनी जिम्मेदारी का निर्वहन किया।एनएसएस शिविर के दौरान मंगलवार को स्वयंसेवकों ने पर्यावरण सरंक्षण के प्रति जागरूक अभियान चलाया। राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय जुंडला में आयोजित 7 दिवसीय एनएसएस कार्यक्रम के अधिकारी सुशील वशिष्ठ एवं सुनीता नरवाल ने बताया कि इस शिविर का मुख्य उद्देश्य पर्यावरण एवं प्राकृतिक संसाधनों की सुरक्षा व सांस्कृतिक , एतिहासिक धरोहरों की देखरेख व सुरक्षा करना है। स्वयंसेवकों को संबोधित करते हुए कहा कि हमें अपने जीवन में ऐसे काम करने चाहिए। जिससे दूसरों को लाभ मिल सके। इस दौरान समाज में फैली बुराईयों को खत्म करने का संकल्प लिया गया। कार्यक्रम में घटते भू-जल स्तर, वन सम्पदा, पर्यावरण प्रदूषण, ग्लोबल वार्मिंग जैसी गंभीर समस्याओं पर विचार-विमर्श किया गया। पृथ्वी और प्रकृति आने वाली पीढि़यों की धरोहर है। इसकी रक्षा करना प्रत्येक नागरिक का नैतिक कर्तव्य है। प्राध्यापक चंद्रलाल ने स्वयंसेवकों से पर्यावरण सरंक्षण का आह्वान करते हुए अधिक से अधिक पौधे लगाने के लिए प्रेरित किया। इस अवसर पर स्वयंसेवक ज्योति, सुनीता, अंजलि, सचिन, जगतार, केशव, रवि, विकास व संगीत ने विशेष रूप से अपनी जिम्मेदारी का निर्वहन किया।