# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
प्रदेशव्यापी हड़ताल को लेकर रोडवेज कर्मियों ने बनाई रणनीति

रोहतक : सरकार पर वादाखिलाफी और गलत नीतियों के विरोधास्वरूप हरियाणा रोडवेज मिनिस्ट्रियल स्टाफ एशोसिएशन की बैठक में प्रदेश स्तरीय चक्का जाम करने की रणनीति तैयार की। उन्होंने कहा कि सरकार कर्मचारियों के प्रति गंभीरता नहीं दिखा रही है और कर्मचारियों के अधिकारों के हनन पर तुली हुई है।

मंगलवार को हरियाणा रोडवेज मिनिस्ट्रियल स्टाफ एशोसिएशन की राज्यस्तरीय बैठक का आयोजन यूनियन कार्यालय में किया गया। अध्यक्षता करते हुए राज्य प्रधान जय भगवान् कादयान ने कहा कि राज्य के कर्मचारियों में वर्तमान सरकार की वायदा खिलाफी से आक्रोश है। बैठक में सरकार की दमनकारी नीतियों के खिलाफ 28 दिसंबर को प्रदेश स्तरीय चक्का जाम करने की रणनीति तैयार की गई।

उन्होंने आरोप लगते हुए कहा कि सरकार राज्य से बाहर जाने वाली रोडवेज बसों को बंद कर रही है। जिस कारण परिवहन विभाग को नुकसान होगा। इसके साथ ही कर्मचारियों के प्रमोशन पॉलिसी से भी छेड़छाड़ करते हुए संपत्ति रिटर्न भरने की शर्त लगा दी गई है। कादियान ने सरकार पर वायदा खिलाफी का आरोप लगाते हुए कहा कि सरकार समय-समय पर रोडवेज बेड़े में नई बसें लाने की बात कहती है, जबकि सच्चाई यह है कि वर्तमान मार्गों पर चल रही बस बिना जरुरी संसाधनों के बंद होने की कगार पर हैं। विभाग में पिछले काफी वर्षों से कोई नियमित भर्ती नहीं की गई है।

कहा कि प्रदेश सरकार कर्मचारियों के चक्का जाम करने के निर्णय से बोखलाई हुई है और हडताल को असफल करने के लिए तरह-तरह के हथकंडे अपनाने में लगी हुई है। लेकिन कर्मचारी आर-पार की लड़ाई के मूड में है।