# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
संयुक्त व्यापार मंडल में दोफाड़, 14 प्रधानों ने खोला मोर्चा

 पानीपत : शहर के सभी बाजारों को मिलाकर बनाया गया संयुक्त व्यापार मंडल दोफाड़ हो गया। चौदह बाजार प्रधानों ने मंगलवार को संयुक्त व्यापार मंडल के खिलाफ मोर्चा खोल दिया। मंडल प्रधान अनिल मदान पर आरोप लगाया कि वह व्यापारियों के हितों की बात नहीं उठा रहे।

कार्यकारिणी गठित होने के छह माह बाद भी बाजार की समस्याओं का समाधान नहीं कराया। अब नए साल पर जनवरी 2018 में अलग से संयुक्त व्यापार मंडल बनाएंगे। इंसार बाजार स्थित फूड जंक्शन में बैठक करने के बाद पत्रकार वार्ता के दौरान यह बात विरोधियों का नेतृत्व करने वाले सालारजंग गेट प्रधान सुनील अरोड़ा ने कही।

उन्होंने कहा कि करीबन छह माह पहले सर्वसम्मति से संयुक्त व्यापार मंडल का गठन किया गया था। गठन का मुख्य उद्देश्य दुकानदारों व व्यापारियों के हितों की रक्षा करना और बाजारों में लाइट, सफाई व सुरक्षा मुहैया करवाना था। मंडल इसमें पूरी तरह से नाकामयाब रहा। सुविधाएं उपलब्ध न करवा पाने के कारण संयुक्त व्यापार मंडल कार्यकारिणी से 14 प्रधानों ने इस्तीफा दे दिया। सुरेश बवेजा ने कहा कि वर्तमान प्रधान अनिल मदान को कई बार नई कार्यकारिणी बनाने की बात कही गई है लेकिन वह किसी की भी नहीं सुनते। राजेश सूरी ने कहा कि मंडल में कुल 36 सदस्य थे। प्रधान अनिल मदान ने सभी सदस्यों को कोई न कोई पदवी सौंप दी।

उम्र का ध्यान न रख कर छोटे व कम उम्र के लोगों को बड़े पदों पर बैठा दिया। कार्यकारिणी से संतुष्ट नहीं होने से उन्हेंने पहले ही इस्तीफा दे दिया था। पत्रकार वार्ता में निशांत सोनी, जीत सिंह मैनी, राजीव सोनी, मुलखराज मक्कड़, महावीर बजाज, इंद्रजीत कथूरिया, सुनील अरोड़ा, संजय वर्मा, योगेश अरोड़ा, कविराज, लक्की मेहता व मुनीष सडाना मौजूद रहे।