# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
धनखड़ ने किसानों को आय बढ़ाने संबंधी बताया फार्मूला

 रेवाड़ी: परंपरागत खेती से किसानों को मौजूदा बाजार दर पर प्रति एकड़ लगभग बीस हजार रुपये सालाना आय होती है, लेकिन यदि वह इसका मोह छोड़ दें तो एक एकड़ जमीन में ही लाखों रुपयों की आय होगी। हरियाणा के कृषि मंत्री ओम प्रकाश धनखड़ ने यह दावा किया है। मंत्री की मानें तो हिमाचल में हुए चिंतन शिविर में उन्होंने किसानों की आय बढ़ाने संबंधी फार्मूला बताया था। वह इसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पास भी पहुंचा चुके हैं।

धनखड़ ने सोमवार को रेवाड़ी आगमन पर अपनी कार्ययोजना दैनिक जागरण के साथ विस्तार से साझा की। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी किसानों की आय बढ़ाने को लेकर संजीदा है। यह फार्मूला किसानों की आय दोगुनी करने की हरियाणा सरकार की ठोस कार्ययोजना का एक हिस्सा है। मंत्री के अनुसार किसान सब्जी उगाकर लगभग 85 हजार, फल की खेती से 91 हजार, मछली पालन से 1 लाख 90 हजार, डेयरी फार्मिग से 2 लाख 50 हजार, फूलों से 3 लाख 50 हजार व झींगा उत्पादन से 6 लाख 30 हजार रुपये की आय अर्जित कर सकते हैं।

पोल्ट्री फार्म से जुड़कर तो आमदनी झींगा से भी अधिक मिल सकती है। सामान्य कृषि से वर्तमान में हो रही 20025 रुपये की आय भी तब है जब बिजली व खाद सहित विभिन्न मद में किसान को 12 हजार 406 रुपये की सब्सिडी मिल रही है। सब्सिडी न हो तो किसान को प्रति एकड़ मात्र 7619 रुपये की आमदनी हो रही है।