News Description
अम्मू ने फिर की मुख्यमंत्री के खिलाफ विवादित टिप्पणी

भिवानी। फिल्म पद्मावती के विरोध में आयोजित राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना की रैली में पूर्व भाजपा सूरजपाल अम्मू ने एक बार फिर मुख्यमंत्री पर विवादित टिप्पणी कर डाली। अम्मू ने रैली के मंच से मुख्यमंत्री को किसी बीमारी से ग्रसित बताया और कहा कि भिवानी की भीड़ ने साबित कर दिया है कि सरकार को जनता की सुननी पड़ेगी।

अम्मू ने कहा कि फिल्म पदमावती पर रोक नहीं लगाई तो युवाओं को रोका नहीं जा सकेगा और नतीजे क्या होंगे, अंदाजा लगाया जा सकता है। मुख्यमंत्री के बारे में विवादित टिप्पणी पर सूरजपाल अम्मू ने कहा कि जो सही है, वहीं कहा गया है। सूरजपाल अम्मू के इस संबोधन की वीडियो क्लिप कुछ घंटों बाद ही सोशल मीडिया पर वायरल हो गई। 

लहराई तलवारें और चलीं गोलियां

रैली के दौरान मंच से एक गायक ने रानी पदमावती पर एक गीत सुनाया तो जोश से भरे युवाओं ने तलवारें व बंदूकें लहरानी शुरू कर दी। एक व्यक्ति ने तो जोश में आकर दो फायर भी कर दिए।

करणी सेना की रैली में रामपाल समर्थक से माइक छीना

मंच पर करणी सेना के कार्यकर्ताओं और रामपाल समर्थकों के बीच हंगामा हो गया।  हुआ यह कि दिल्ली से आए एडवोकेट एपी सिंह ने जब रामपाल के अनुयायियों के समर्थन की बात करते हुए उनकी भीड़ होने का दावा किया तो वहां पर मौजूद लोगों ने माइक छीन लिया और विरोध शुरू कर दिया। इस पर आयोजकों ने उसे तुरंत मंच से हटा दिया।

किसी भी कीमत पर चलने नहीं देंगे फिल्म

रैली के मुख्य अतिथि संजय सिंह अमेठी ने कहा कि फिल्म पद्मावती में इतिहास के तथ्यों को तोड़-मरोड़ कर पेश किया गया है। संजय लीला भंसाली की इस फिल्म को किसी भी कीमत पर चलने नहीं दिया जाएगा। देवा इंडिया फाउंडेशन की डायरेक्टर व राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना की राष्ट्रीय संयोजक साध्वी देवा ठाकुर ने हिंदुओं का अपमान करने वाले लोगों को चेतावनी दी कि अगर किसी ने भी रानी पद्मावती जैसी महान रानियों के चरित्र पर मनोरंजन का साधन बनाकर उसका मजाक उड़ाया तो उसकी खैर नहीं है। 

राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना के प्रदेश अध्यक्ष भवानी सिंह ने पद्मावती फिल्म पर रोक लगाने का समर्थन करते हुए कहा कि कुछ भी हो जाए, सरकार चाहे या ना चाहे, लेकिन फिल्म को प्रदेश में नहीं चलने दिया जाएगा।