# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
साल भर से लापता लड़की का पेड़ से लटका मिला शव

बहादुरगढ़ : शहर के छोटूराम नगर में रह रहे उत्तर प्रदेश मूल के एक परिवार की साल भर से लापता लड़की का शव संदिग्ध हालात में रेलवे लाइन के नजदीक पेड़ से लटका मिला। उसके गले में फंदा बंधा था। शव सड़ चुका था। पुलिस ने घटना को लेकर रिपोर्ट दर्ज कर ली है। परिजनों ने किसी पर कोई शक नहीं जताया। ऐसे में पोस्टमार्टम के बाद शव वारिसों के हवाले कर दिया गया।

पुलिस के मुताबिक उत्तर प्रदेश के संभल जिले के निवासी मेवाराम का परिवार इन दिनों छोटूराम नगर में किराये पर रहता है। परिवार के सभी सदस्य फैक्ट्रियों में काम करते है। मेवाराम की छोटी बेटी रीना इसी साल जनवरी में लापता हो गई थी। वह फैक्टरी से निकली मगर घर नहीं पहुची। इस पर शहर थाना में फरवरी में पुलिस ने गुमशुदगी के मामले में केस दर्ज कर लिया था। मगर रीना का कुछ पता नहीं चल पाया। बताया गया है कि रेलवे लाइनों के नजदीक बनी फैक्टरी नंबर 371 में रीना का भाई काम करता है। इसी फैक्टरी के पीछे रेलवे लाइन के नजदीक रीना का शव सड़ी हालत में पेड़ से लटका हुआ था। फैक्टरी का सफाई कर्मी जब छत के रास्त पीछे की तरफ कूड़ा डालने गया, तब उसने शव देखा। इसके बाद फैक्टरी के अन्य कर्मचारी भी वहा पहुंचे। मृतका रीना के भाई ने शव देखा तो उसने पहचान कर ली। इसके बाद जीआरपी थाना टीम मौके पर पहुची। शव कितने दिनों से यहा लटका हुआ था, इस पर तो स्थिति स्पष्ट नही हो पाई, मगर इस तरह से शव लटके मिलने को संदिग्ध माना जा रहा है। पुलिस का कहना है कि परिजनों ने किसी पर शक नही जताया है। ऐसे में घटना को इत्तफाक मानकर कार्रवाई की गई है।