News Description
पटवारियों को प्रशिक्षित करके दिए जाएंगे टेबलेट : डीसी

जींद : आइटी में ज्ञान रखने वाले पटवारियों को प्रशिक्षित करके टेबलेट दिए जाएंगे। इन टेबलेट के माध्यम से वे नागरिकों को जाति-प्रमाण पत्र तैयार करने जैसे कार्यों में सहयोग करेंगे। उक्त जानकारी डीसी अमित खत्री ने सुशासन दिवस के मौके पर सीएम मनोहर लाल के साथ हुई वीडियो कांफ्रें¨सग के बाद दी। वीडियो कांफ्रें¨सग में लगभग दो दर्जन पंचायती राज संस्थाओं के प्रतिनिधियों ने भाग लिया।

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने सोमवार को पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के 94वें जन्मदिन पर चंडीगढ़ से सुशासन दिवस के मौके पर आईटी से जुड़ी सेवाओं के नए वर्जन का शुभारंभ किया। इस दौरान प्रदेश के सभी जिला उपायुक्तों के साथ वीडियो कांफ्रें¨सग के जरिये आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के जन्मदिन को साल 2014 से सुशासन दिवस के रूप में मनाया जा रहा है। इस दिन ई-रजिस्ट्रेशन से जुड़ी परियोजनाओं को पायलेट प्रोजेक्ट के रूप में शुरू किया गया था। सोमवार को उन्हीं योजनाओं के नए वर्जन की शुरुआत मुख्यमंत्री ने वीडियो कांफ्रें¨सग के जरिये की। उन्होंने कहा कि लोगों को स्वच्छ व पारदर्शी प्रशासन उपलब्ध करवाने में आइटी से जुड़ी सेवाओं के जिन पांच घटकों के नए वर्जन का शुभारंभ हुआ है, उससे प्रशासनिक कार्यों में पारदर्शिता आएगी। लोग घर बैठे आइटी से जुड़ी सेवाओं का प्रयोग कर अपने समय व धन का सदुपयोग कर पाएंगे। डीसी अमित खत्री ने बताया कि मुख्यमंत्री द्वारा सरल सेवाएं फोरेस्ट सर्विसिस, एनआइसी के वीडियो कांफ्रें¨सग एप्लीकेशन, डीएम डैश बोर्ड, ऑनलाइन होटल रजिस्ट्रेशन के नए वर्जन का शुभारंभ किया गया है। इस मौके पर नगराधीश सत्यवान मान, जिला राजस्व अधिकारी रामफल कटारिया, जिला विकास एवं पंचायत अधिकारी अनुभव मेहता, एनआइसी के उप निदेशक एमजेडआर बदर, सहायक सूचना अधिकारी संजीव उपस्थित रहे।