News Description
जेलर गए अवकाश पर, आइजी को दी गई कमान

गुरुग्राम : पद भार ग्रहण करने के बाद भोंडसी जेल के नव नियुक्त जेल अधीक्षक (जेलर) जयकिशन छिल्लर एक सप्ताह के लिए अवकाश पर चले गए हैं। उनकी जगह जेल अधीक्षक का अतिरिक्त कार्यभार आइजी (जेल) जगजीत ¨सह को दिया गया। उन्होंने जेल आकर जिम्मेदारी भी सोमवार से संभाल ली। ऐसा हरियाणा में पहली बार हुआ है कि जेलर अवकाश पर हो और पद का कार्यभार डिप्टी जेलर को नहीं देकर आइजी रैंक के अधिकारी को दिया गया।

इससे पहले सीनियर डिप्टी जेलर ही जेलर के नहीं होने पर चार्ज संभालते थे। मगर डीजी जेल डॉ. के पी ¨सह को जैसे ही सूचना मिली की जेलर अवकाश पर रहेंगे तो उन्होंने आइजी जेल को जिम्मेदारी दे दी। दरअसल, भोंडसी जेल में जो पहले चल रहा था वह डीजी अब फिर से नहीं चलने देना चाहते। आइजी जेल को जब यहां विशेष रूप से व्यवस्था सही करने के लिए लगाया गया था, तो उनकी देखरेख में चले सर्च अभियान में जेल के अंदर से चार सौ से अधिक मोबाइल मिले थे।

जेल में बंद कैदी व गैंगस्टर स्मार्ट फोन यूज कर शहर में वारदात को अंजाम दे रहे थे। सोशल मीडिया से भी जुड़े रहने के साथ ही एक महिला वार्डन कपड़ों में छिपाकर मोबाइल अंदर ले जाती थी। बदले में वह दस से पांच हजार रकम लेती थी। आइजी ने पंद्रह दिनों में जेल की व्यवस्था सुधार दी थी। इसके चलते तीस से अधिक गैंगस्टर दूसरी जेल में भेजे गए। वहीं 34 वार्डन का तबादला कर दिया गया। इसके बाद तीन डिप्टी जेलर भी दूसरी जेल में भेज दिए गए थे। जेल में फिर से मोबाइल का खेल नहीं हो इसलिए ही डीजी ने आइजी को लगाया है।