News Description
अतिक्रमण की समस्या से जूझ रहा शहर, फ्लॉप हुआ अभियान

सोनीपत: सड़क पर बेतरतीब जाम को देखते हुए नगर निगम ने दो सप्ताह पहले दुकानदारों व रेहड़ी वालों द्वारा फुटपाथ और सड़क तक किए अतिक्रमण के खिलाफ अभियान चलाया था। यह अभियान शहर के एक सीमित हिस्से तक ही चला और सकारात्मक असर से पहले ही खत्म भी हो गया।

पूरी तरह से फ्लॉप रहा अभियान रेलवे रोड, कच्चे कवार्टर व सुभाष चौक तक ही सीमित रहा। निगम ने इससे आगे जाना ही मुनासिब नहीं समझा जबकि अतिक्रमण की समस्या पूरे शहर में है। रोहतक व गोहाना रोड पर कपड़ों व बर्तन के दुकानदारों ने पूरे फुटपाथ व कहीं-कहीं तो सड़क तक कब्जा कर रखा है। नगर निगम लाइन पार के अतिक्रमण पर अभी तक आंखे मूंदकर बैठा है।

शहर में ट्रैफिक जाम की समस्या दिनोदिन बढ़ती जा रही है। इसे कम व व्यवस्थित करने के लिए पुलिस व प्रशासन जोर आजमाइश तो कर रहे हैं, मगर इसका परिणाम जमीनी स्तर पर देखने को नहीं मिल रहा। इसी दिशा में इस महीने एक पहल नगर निगम द्वारा की गई। पिछले दिनों हुए अतिक्रमण अभियान में कुल 70 लोगों के चालान काटे गए, जिसमें कम से कम एक हजार व अधिकतम चालान पांच हजार रुपये का रहा। अधिकारियों द्वारा की गई कार्रवाई का असर मार्केट तो दूर, जिनके चालान किए गए उन पर भी नहीं पड़ा। निगम की टीम के पीठ फेरते ही दुकानदारों ने दोबारा से सामान बाहर रख लिया।

शहर में पिछले कुछ सालों में ट्रैफिक काफी बढ़ गया है। इस समय शहर की अधिकतर सड़कों व सभी मार्केट का यह हाल है कि किसी पैदल व्यक्ति का सड़क पर चलना तक दूभर हो गया है। शहर की सड़कें चौड़ी नहीं है और इससे दुकानों के बाहर रखा सामान दोगुनी दिक्कतें पैदा कर रहा है। निगम इस समस्या को दूर करने के लिए कभी-कभार एक-दो दिन अभियान चलाता तो है मगर इसका कोई असर नहीं होता। इसी के साथ लाइन पार रोहतक व गोहाना रोड पर अतिक्रमण पर कार्रवाई कभी देखने में नहीं आती।