News Description
स्वच्छता सर्वेक्षण में रैक सुधारने को कवायद तेज

पंचकूला : स्वच्छता सर्वेक्षण 2018 के लिए नगर निगम ने पिछली रैंक 211 को सुधारने के लिए कवायद शुरू कर दी है। स्वच्छता सर्वेक्षण में जिन कमियों को दूर किया जाना है, उनको लेकर कमिश्नर राजेश जोगपाल ने सभी विभागों के प्रमुख को चिट्ठी लिखकर सहयोग मांगा है।

स्वच्छता सर्वेक्षण का मुख्य उद्देश्य श्रेष्ठ शहरों और कस्बों के लिए स्वच्छता परिदृश्य में सुधार करना है, जिसमें खुले में शौच मुक्त, सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट और स्वतंत्र अवलोकन शामिल है। इस सर्वेक्षण 2018 में देश के सभी 4041 कस्बों और शहरों के बेहतर स्वच्छता सेवाओं के लिए बुनियादी ढांचा के विकास और उनके स्थिरता के परिणाम, नागरिक कनेक्ट और जमीनी स्तर पर जांच के आधार पर रैंक दिया जाएगा। निगम के कमिश्नर राजेश जोगपाल इस सर्वेक्षण में पंचकूला को अव्वल लाने के लिए दिन-रात एक करने में जुटे हुए हैं।

कमिश्नर राजेश जोगपाल ने बताया कि स्वच्छता सर्वेक्षण में प्रत्येक काम के लिए अलग-अलग अंक है, जिसमें खुले में शौच मुक्त के लिए 30 प्रतिशत अंक है। यह पड़ाव हम पूरा कर चुके हैं। इसके अंक पूरे मिलेंगे। ठोस कचरे का संग्रह और परिवहन 30 प्रतिशत, ठोस कचरे का प्रसंस्करण और निपटान 25 प्रतिशत, सूचना, शिक्षा 05 प्रतिशत, क्षमता निर्माण 05 प्रतिशत, नवाचार 05 प्रतिशत है। मूल्यांकन भार सेवा स्तर की प्रगति जिसमें सर्विस स्तरीय प्रगति, इंफोस्ट्रक्चर सृजन, प्रसंस्करण और संचालन 35 प्रतिशत, लोगों की प्रतिक्रिया 35 प्रतिशत, प्रत्यक्ष अवलोकन 30 प्रतिशत हैं।