News Description
बच्चों को अच्छी शिक्षा दें नौकरी नहीं मांगे : मुख्यमंत्री

कुरुक्षेत्र : मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि नौकरी की मांग कर रहे पार्टी कार्यकर्ताओं के लिए सरकार की अलग से कोई नीति नहीं है। पार्टी कार्यकर्ता पार्टी की नीति के साथ जुड़ा है। उन्होंने पहले ही कार्यकर्ताओ को स्पष्ट कर दिया है कि अपने बच्चों को अच्छी शिक्षा दें ताकि नौकरी पाने के लिए किसी प्रकार के सिफारिश की आवश्यकता नहीं पड़े।

मुख्यमंत्री रविवार को पिपली पैराकीट में कार्यकर्ताओं की बैठक लेने के बाद पत्रकारों से बात कर रहे थे। पत्रकारों ने सवाल किया कि हर बाद पार्टी कार्यकर्ता अपने तथा अपने बच्चों को नौकरी देने की मांग उठाते रहे हैं जबकि सरकार स्पष्ट कह चुकी है कि मैरिट के आधार ही नौकरी दी जाएगी ऐसे में कार्यकर्ताओं को पार्टी से जोड़ने रखने की को नीति या योजना बनाई गई है। इस पर मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार ने अपना रुख स्पष्ट कर दिया है तथा कार्यकर्ताओं को उसमें सहयोग करना चाहिए। बैठक में कार्यकर्ताओं से भी कहा कि वे उन्हें तथा उनके बच्चों को नौकरी देना तो चाहते हैं पर नियमों के खिलाफ नहीं जाना चाहते। नौकरी तो मैरिट के आधार पर दी जाएगी। कार्यकर्ताओं के साथ बैठक में भी मुख्यमंत्री ने कहा कि वे कार्यकर्ताओं तथा उनके बच्चों को नौकरी देना तो चाहते हैं लेकिन नियम से बंधे हैं। बैठक में कार्यकर्ताओं से सुझाव लिए गए कि सरकार को और क्या करना चाहिए कि जनता में पकड़ मजबूत हो।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में ओवर लोडिड वाहनों पर शिकंजा कसने के लिए एक नई पालिसी पर काम किया जाएगा। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार की तरफ से 25 दिसंबर को गुड गर्वेनेंस डे के रुप में मनाया जाता है। इस वर्ष भी लोगों की सुविधा को जहन में रखते हुए कई आनलाइन सेवाओं का शुभारंभ सरकार की तरफ से किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव 2018 को लेकर अधिकारियों की एक उच्च स्तरीय बैठक में पिछले महोत्सव और आगामी महोत्सव को लेकर मंथन किया गया है। सरकार ने इस महोत्सव को अंतरराष्ट्रीय स्वरुप दिया है। इसलिए आगामी गीता महोत्सव का कुंभ मेले की तर्ज पर आयोजन किया जाएगा। यूनिवर्सिटी कॉलेज को का दर्जा देने के मामले को चेक करने के उन्होंने जिला उपायुक्त को आदेश दिए।

इस मौके पर सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्यमंत्री कृष्ण कुमार बेदी, विधायक सुभाष सुधा, भाजपा के प्रदेश महामंत्री वेदपाल, उपायुक्त सुमेधा कटारिया, पुलिस अधीक्षक अभिषेक गर्ग, भाजपा के जिलाध्यक्ष धर्मवीर मिर्जापुर व जिप चेयरमैन गुरदयाल सुन्हेड़ी मुख्य रूप से उपस्थित थे।

अचानक पहुंचे शहर के कई प्रमुख स्थानों पर

रविवार को मुख्यमंत्री मनोहर अलग ही मोड में नजर आए। पत्रकारों से बातचीत के दौरान उठे शहर के कई मुद्दों को गंभीरता से लिया तथा पत्रकारवार्ता के तुरंत बाद निरीक्षण करने निकल पड़े। सबसे पहले पिपली हाइवे बस अड्डे पर पहुंच गए। अड्डे के अंदर फैली अव्यवस्थाएं देख कर मुख्यमंत्री भड़क गए। इसके बाद वे सदर पुलिस थाना पहुंचे, इसके बाद नया बस अड्डा का मुआयना करने के बाद एनएनजेपी अस्पताल पहुंचे। अस्पताल में सफाई व्यवस्था दुरुस्त करने के निर्देश दिए। इसके बाद मुख्यमंत्री झांसा रोड व धुराला रोड का निरीक्षण करने के बाद चंड़ीगढ़ के लिए रवाना हो गए। उनके इस एक्शन को लेकर अधिकारियों की सांसे फूली रहीं।