# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
भाषण के दौरान गला न बैठे, इसलिए काली मिर्च-मिश्री खाते थे अटल

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई का हरियाणा के साथ ही रोहतक से भी खासा लगाव रहा है। वह जब भी हरियाणा में चुनाव-सभाएं करते थे तो उनका गला न बैठे इसके लिए खास इंतजाम किए जाते थे। उस दौरान मथुरा से विशेष मिश्री मंगाई जाती थी, जबकि साथ में काली मिर्च भी दी जाती थीं। जनसभाओं को संबोधित करने से पहले और बाद में अटल जी उसका सेवन करते थे।

भाजपा प्रदेश कार्यालय के प्रभारी गुलशन भाटिया कहते हैं कि अटल जी जब भी रोहतक या फिर हरियाणा में आए तो अक्सर किसी कार्यकर्ता के यहां ही भोजन करते थे। उन्हें दीपावली के त्योहार पर घरों में तैयार होने वाली मावे की गुझिया बेहद पसंद रही है

भाजपा प्रदेश कार्य समिति की सदस्य व फरीदाबाद महिला मोर्चा की प्रभारी अंजली ने बताया कि गिफ्ट परंपरा के मेरे दादा जी विरोधी रहे हैं। सबसे बड़ा गिफ्ट घर में तैयार भोजन को ही मानते थे। खाने के विशेष शौकीन रहे हैं। परिवार के साथ आखिरी जन्म दिवस ग्वालियर में ही मनाया था। उस दौरान बाहर के बजाय घर से ही तैयार भोजन को तवज्जो दी थी, गिफ्ट किसी से लेते नहीं थे