News Description
एचएयू में बिकी 30 हजार की गुलदाउदी, पत्थरचट और पॉम पौध की मांग बढ़ी

हिसार : चौधरी चरण ¨सह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय में दो दिवसीय गुलदाउदी शो का समापन हो गया। इस बार फूलों की पौध के साथ-साथ लोगों ने रंग-बिरंगी विभिन्न प्रकार की सब्जियां भी खूब खरीदीं। यही नहीं, लोगों ने इनके बीज की डिमांड भी की। लेकिन वैज्ञानिकों ने कहा कि फिलहाल यह लोगों का रुझान देखने के लिए प्रदर्शित की गई थी। युवाओं को आधुनिक खेती के प्रति आकर्षित करने और प्रोत्साहित करने के लिए वैज्ञानिकों ने इन सब्जियों की प्रदर्शनी लगाई थी। वैज्ञानिक डा. अर¨वद कुमार ने बताया कि लाल, गुलाबी और काले रंग की गाजर के अलावा सफेद और काली गांठ गोभी के प्रति लोगों ने खास रुचि दिखाई। उन्होंने कहा कि लोगों के रुझान को देखते हुए वे अगले सीजन से इसके बीज उत्पादन पर भी विचार करेंगे। वहीं गुलदाउदी शो में करीब 30 हजार रुपये के गुलदाउदी के फूलों की ब्रिक्री हुई। सफेद और गुलाबी रंग की गुलदाउदी के प्रति लोगों का खासा रूझान रहा। यहां तक कि आइजी अमिताभ ढिल्लों भी अपने मित्रों व परिवार के साथ आए और गुलदाउदी प्रदर्शनी का अवलोकन किया। इससे पहले गुरुग्राम के सेशन जज कृष्णकांत गर्ग ने भी गुलदाउदी प्रदशनी में पहुंचे। प्रदर्शनी के दौरान बौनसाई, पत्थरचट और कैरिया पाम की भी खासा डिमांड रही। लेकिन लोगों को मायूस ही लौटना पड़ा। एचएयू के डा. विनोद गोयल ने बताया कि इन पौधों की ब्रिक्री नहीं की गई, लेकिन सोमवार को लोग विश्वविद्यालय में आकर इनकी पौध प्राप्त कर सकते हैं।

-------------

साइललेस गार्डन की ली जानकारी -

गुलदाउदी शो के दौरान आए शहर के लोगों ने अपने घर की छतों पर साइललैस गार्डन बनाने की इच्छा जताई। लोगों ने कहा कि मिट्टी के भारी होने के कारण छत पर गार्ड¨नग करना ठीक नहीं लगता। लेकिन कोकापिट आदि हल्के तत्वों के माध्यम से छत पर साइललैस गार्डन तैयार किया जाना आसान और सुरक्षित है। वैज्ञानिकों ने कि दोनों दिनों में करीब दो दर्जन से भी अधिक लोगों ने साइललैस गार्ड¨नग को लेकर जानकारी ली है।