# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
सड़क हादसों की पड़ताल कर रही दुर्घटना अनुसंधन इकाई

फरीदाबाद पुलिस अब सड़क दुर्घटना के कारण जानने के लिए दुर्घटना अनुसंधान पर भी काम कर रही है। यह इकाई सूरजकुंड रोड स्थित इंस्टीट्यूट ऑफ ट्रैफिक मैनेजमेंट के विशेषज्ञों के साथ मिलकर सड़क दुर्घटना के बाद उसके कारणों की पड़ताल करती है। दुर्घटना के कारणों की रिपोर्ट पुलिस आयुक्त कार्यालय को भेजी जाती है, ताकि उसका निदान हो। अजरोंदा रोड स्थित डीसीपी ट्रैफिक कार्यालय में यह ¨वग स्थापित की गई है। यह डीसीपी ट्रैफिक के अंतर्गत काम करेगी। जांच के लिए ¨वग में तैनात स्टाफ को तीनों जोनों के हिसाब से बांटा गया है। प्रदेश में यह पहला मौका है जब किसी जिले की पुलिस ने यह जिम्मा संभाला है।

शहर में ये हैं दुर्घटना के मुख्य कारण :

अब तक की पड़ताल में सामने आया है कि जिले में हादसों का मुख्य कारण सड़कों की गलत इंजीनिय¨रग है। सड़कों की डिजाइन इस तरह की है, जिससे हादसे बढ़ रहे हैं। राजमार्ग पर दुर्घटना का कारण बिना सुरक्षा मानक पूरे किए वाहनों का आवागमन शुरू कर देना सामने आ रहा है। कुछ मामलों में नशा भी हादसे के पीछे बड़ा कारण बना है। जांच में यह भी सामने आया है कि हादसों में मरने वालों की सबसे अधिक संख्या पैदल चलने वालों की है।

अब तक केवल मुकदमा दर्ज करने तक सीमित थी जांच

सड़क हादसों की जांच अब तक केवल मुकदमा दर्ज करने और आरोपी को गिरफ्तार करने तक सीमित थी। कभी हादसे का कारण जानने का प्रयास नहीं किया जाता था। इस मुद्दे को दैनिक जागरण भी लगातार उठाता रहा है। वहीं जिले में सड़क दुर्घटनाओं का ग्राफ लगातार बढ़ रहा है। इस साल 180 लोग सड़क दुर्घटनाओं में जान गंवा चुके हैं। सड़क दुर्घटनाओं पर अंकुश के लिए यातायात पुलिस ने काफी प्रयास किए हैं लेकिन इससे ज्यादा फर्क नहीं पड़ा।

-------

दुर्घटना अनुसंधान इकाई पूरे प्रदेश में सबसे पहले फरीदाबाद में बनाई गई है। अब हरियाणा पुलिस इसे सभी जिलों में लागू करने पर विचार कर रही है। यह इकाई दुर्घटनाओं का कारण जानने के साथ ही आरोपियों की गिरफ्तारी भी करेगी। दुर्घटनाओं की जां