# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
करोड़ों की सरकारी जमीन पर हो रहा सरेआम कब्जा

बहादुरगढ़:पूर्व विधायक नफे सिंह राठी ने आरोप लगाया है कि शहर में करोड़ों की सरकारी जमीन पर सरेआम कब्जा हो रहा है, मगर कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। रजिस्ट्री किसी दूसरी जमीन की हो रही है और कब्जा सरकारी जमीन पर दिया जा रहा है।

राठी ने शनिवार को पत्रकार वार्ता में कहा कि नगर परिषद के खसरा नंबर 2337 व हरियाणा सरकार के खसरे नंबर 2338-1 में लगभग 5200 गज जमीन पर सरेआम अवैध कब्जा करवाया जा रहा है। नगर परिषद इसके नक्शे पास भी कर रही है। रजिस्ट्रिया तो खसरा नंबर 2336 व 2335 और 2331 से संबंधित है। जबकि उनका कब्जा सरकार व नप की मलकियत वाली जमीन पर दिया जा रहा है। इसका मार्केट रेट दो लाख रुपये प्रति वर्ग गज है और यह महा घोटाला 100 करोड़ से ज्यादा का बनता है। हैरानी यह है कि नगर परिषद ऐसे जमीनों के नक्शे पास कर रही है। रजिस्ट्री जिन खसरा नंबरों की है, वे कबाड़ी मार्केट रोड पर लगते ही नहीं है। रोहतक रोड से कबाड़ी मार्केट को जोड़ने वाली सड़क पर जो जमीन है इसका तबादला हरियाणा सरकार के पीडब्ल्यूडी विभाग ने खसरा नंबर-2338-1 से किया था। यह तबादला भीम सिंह फतेह सिंह निवासी पाच बिसवा बहादुरगढ़ से किया गया था। बाद में यह जमीन बेच दी। इस जमीन का मालिकाना हक पाना श्यामलात नासियान यानी पाच बिस्वा का था। यह तबादला बाद में रद कर दिया गया था। खसरा नंबर 2338-1 पहले भी हरियाणा सरकार का था और आज भी हरियाणा सरकार का है। खसरा नंबर-2337 जिसका कुल रकबा लगभग 6350 वर्ग गज है और इसकी मालिक पाच पाना नासियान है। इसमें से लगभग 3500 वर्ग गज जमीन पाना पाच के कुछ लोगों ने पट्टे पर कुंदन सिनेमा वालों को 1956 में दी थी। आज राजस्व रिकार्ड के मुताबिक नगर परिषद अन्य जमीनों के साथ-साथ खसरा नंबर-2337 की मालिक है। इसी जमीन पर अवैध कब्जे करवाए जा रहे है।

पिछले माह हुए रिकॉर्ड चोरी का मुद्दा भी उठाया

राठी ने कहा कि बहादुरगढ़ में पिछले महीने पटवार खाने से जटवाड़ा पाच बिस्वा व आठ बिस्वा का लगभग 70 साल पुराना रिकार्ड चोरी हुआ था। इस रिकार्ड को चोरी कराया गया था। इसका मकसद ही सिर्फ यह था कि जमीनों में घोटाले किए जा सके। सरकार व नगर परिषद की जमीन पर जो कब्जा करके 100 करोड़ से ज्यादा का चूना लगाने का काम किया जा रहा है उसमें नगर परिषद की चेयरपर्सन व वर्तमान विधायक के दबाव के बगैर नक्शा पास कराने का कार्य संभव नहीं हो सकता।

इस मौके पर पाच पाना के सुखबीर राठी, मामन, रघबीर, ईश्वर, सानू, देवेंद्र, अतर सिंह नंबरदार, सुनील राठी, बल्लू राठी के अलावा पार्षद शशि कुमार, पार्षद रमन यादव, पार्षद पति सोनू दलाल के साथ सैकड़ों लोग मौजूद रहे।