# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
मम्मी अंदर, तो पापा और दादी बाहर देते रहे परीक्षा

बहादुरगढ़ :शिक्षक पात्रता परीक्षा के दौरान खास पहलू भी दिखा। एक बार फिर से नवजात या छोटे बच्चों को लेकर परीक्षा देने आई महिलाओं ने तो अंदर परीक्षा दी मगर इस अवधि में उनके बच्चों को संभालना परिजनों के लिए भी किसी परीक्षा से कम नही रहा। ज्यादातर मामलों में पापा ने ही यह जिम्मेदारी निभाई। कुछ की सास साथ में आई थी।

इस परीक्षा में पहले दिन महिला परीक्षार्थियों की संख्या ही ज्यादा रही। इनमें से काफी ऐसी रही जो नजदीकी समय में ही मा बनी है। किसी के पास एक साल तो किसी के पास डेढ़ साल का बच्चा है। कई के पास तो इससे भी छोटे बच्चे है। ऐसे में वे घर से बच्चे को साथ लेकर ही परीक्षा केंद्र पर पहुंची, मगर लाइन में लगने से लेकर परीक्षा खत्म होने तक के साढे़ तीन से चार घटे के समय के दौरान ऐसे बच्चे अपनी मा की गोद से दूर ही रहे। कुछ परीक्षार्थियों को छोड़ ज्यादातर के बच्चे अपने पापा या दादी की गोद में ही दिखे। मगर उनके लिए तो इतने समय तक बच्चे को संभालना किसी परीक्षा से कम नही रहा। कंधे से लगाए अपने बच्चे को कई शख्स परीक्षा केंद्र के बाहर इधर-उधर टहलते नजर आए। परीक्षा खत्म होने के बाद जब मा दिखी तब बच्चों के चेहरो पर खुशी लौटी। कई मामलों में तो बच्चे को संभालने के लिए परिवार की महिला सदस्य भी साथ ही आई थी।