News Description
डाबौदा में महिला सरपंच के खिलाफ उतरे पंच

बहादुरगढ़ :बहादुरगढ़ में डाबौदा खुर्द की दलित महिला सरपंच के खिलाफ 11 पंचों ने मोर्चा खोल दिया है। पंचों ने शपथ पत्र देकर सरपंच पर गाव में विकास कार्यो में अनियमितता बरतने के आरोप लगाए है। उनका कहना है कि स्वागत द्वार और डस्टबीन के नाम पर भी गबन किया गया है।

पंचो ने गाव में प्रशासक के जरिये काम कराने की माग की हैं। डाबौदा खुर्द गाव में 13 पंच हैं। इनमें से 11 सरपंच पुष्पा तंवर के खिलाफ हो चुके हैं। खंड प्रशासन भी अब गाव में पंचों के बहुमत को देखते हुए गाव में प्रशासक नियुक्त करने पर विचार कर रहा है। पंचों ने सरपंच के विरोध में शपथ पत्र भी दे रखे हैं। पंचों के इसी विरोध के चलते खंड कार्यालय ने दोनों पक्षों के साथ बैठक कर उनका पक्ष भी जान लिया है। खंड कार्यालय में हुई बैठक में पंचों ने सरपंच पर गाव में गलत काम करने के आरोप लगाए हैं। पंचों का कहना है कि सरपंच ने स्वागत द्वार और डस्टबीन के नाम पर पैसे का गबन किया हैं। पंचों ने गाव में प्रशासक लगाकर काम कराने की माग की है। गाव के पंच मंजीत और जोगेंद्र का आरोप है कि जिन गलियों को बनाया जाना जरूरी था वे गलिया नही बनाई गई। जिन गलियों को सरपंच ने बनवाया है वे गलिया भी टूटने लगी हैं।

गाव में पंच और सरपंच के बीच चल रही रस्साकसी के कारण गाव के विकास कार्य भी प्रभावित होने लगे हैं। ब्लाक समिति के सदस्य संदीप मलिक का कहना है कि गाव के 11 पंचों ने प्रशासन को महीनों पहले ही सरपंच के खिलाफ शिकायत दी थी। इस पर प्रशासन को उचित कदम उठाना चाहिए।

वर्जन..

शिकायत देने वाले पंच झूठ बोल रहे हैं। सभी कार्य पंचों की सहमति से ही करवाए जा रहें है। पंच उन्हें हटवाकर खुद सरपंच का काम करना चाहते हैं। जो आरोप लगाए जा रहे है, वे राजनीति से प्रेरित है। मेरा मकसद गाव का विकास करवाना है।