News Description
जमीन का पारिवारिक विवाद कोर्ट में स्टे, निगम बनाने पहुंच गया सड़क

 अंबाला : वार्ड 15 के नग्गल में पारिवारिक जमीन का मामला न सिर्फ कोर्ट में विचाराधीन है बल्कि स्टे भी लगा हुआ है, लेकिन निगम की अफसरशाही राजनैतिक दबाव के चलते उस विवादित जमीन पर ही सड़क बनाने पहुंच गई। नगर निगम के पास जमीन से संबंधित कोई दस्तावेज नहीं है फिर निगम के जेई निगम आयुक्त और संयुक्त आयुक्त का नाम लेकर जमीन मालिकों पर जबरदस्ती 8 फीट की जगह 24 फीट चौड़ी सड़क बनाने की जिद पर अड़े हैं। मामला जब ज्यादा बढ़ा तो नगर निगम के संयुक्त आयुक्त गगनदीप ¨सह अपने एमई ब्रांच के अधिकारियों के साथ मौके पर पहुंचे। संयुक्त आयुक्त ने जाते ही पहले तो एक्सईएन से बोला कि आप काम क्यों नहीं करा पा रहे हैं लेकिन बाद में जब प्रॉपर्टी मालिकों ने कहा कि आपके पास प्राइवेट प्रॉपर्टी में जबरदस्ती सड़क बनाने का अधिकार है और कोर्ट ने इस जमीन पर स्टे लगा रखा है। पंचायत ने भी यहां पर 6 फीट चौड़ी ईंटों की सड़क बना रखी है आप उसे किस अधिकार के साथ बना सकते हैं। इस पर एक्सईएन रामदास धीमान ने कहा कि गांव के लोग मंदिर-गुरुद्वारे के लिए अपनी जमीन से रास्ते छोड़ते हैं और लाल डोरे की जमीन का कोई रिकार्ड नहीं होता। इसीलिए आप मिलकर इस सड़क को चौड़ा बनवा लो। सभी को इसका फायदा होगा। विरोध जता रहे सुरजन ¨सह ने कहा कि पूरे निगम अमले के साथ जबरदस्ती किसी प्राइवेट प्रॉपर्टी पर सड़क बनाने के लिए आना यह दर्शाता है कि निगम पर कितना दबाव है? हमारी सड़क के साथ में पुरानी नींव है और पंचायत की छह साल पुरानी सड़क आप खोद कर देख लें। हम तो फिर भी दो फीट ओर छोड़ रहे हैं आपको छूट है कि आप 6 की बजाए 8 फीट चौड़ी सड़क बना लो, लेकिन निगम जिद पर अड़ा है कि 24 फीट चौड़ी सड़क बनानी है। मौके पर महेश नगर थाना के प्रभारी अजैब ¨सह ने भी संयुक्त आयुक्त से बातचीत की।

मंगलवार को कार्यालय में बुलाया

लोगों का विरोध देखते हुए संयुक्त आयुक्त गगनदीप ¨सह बैकफुट पर आ गए। उन्होंने माना कि हमारे पास कोई रिकार्ड नहीं है। उन्होंने एक्सईएन को आदेश दिए कि वह दोनों पक्षों को निगम कार्यालय में मंगलवार को बुलाएं और चाय पिलाएं। चाय पीने से प्यार बढ़ेगा और उसके बाद दोनों पक्षों में सहमति बनाएं। इसके बाद दोनों पक्ष कोर्ट से केस वापस लें और सड़क बनाने का काम शुरू कराएं ताकि लोगों को इसका फायदा हो। इसके बाद नगर निगम को पूरा अमला वापस लौट गया है।