# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
सात दिवसीय विश्व शांति मेले का भव्य समापन

रेवाड़ी : दिल्ली रोड स्थित सरस्वती गार्डन में चल रहे सात दिवसीय विश्व शांति मेले का शुक्रवार को समापन हो गया। ब्रह्मकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय की ओर से 16 दिसंबर से आरंभ हुए इस कार्यक्रम में विभिन्न राजनीतिक, सामाजिक, धार्मिक संगठनों के साथ दूर दराज से आए धर्मप्रेमियों ने शिरकत कर मनोविकारों से मुक्ति के लिए ध्यान और कार्यक्रम में लगाए प्रदर्शनी का अवलोकन किया।

शुक्रवार को समापन अवसर पर सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया गया। इसमें विभिन्न स्कूलों के बच्चों ने भी कार्यक्रम में हिस्सा लिया। कार्यक्रम में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व मंत्री कैप्टन अजय ¨सह यादव ने शिरकत की। उन्होंने लोगों से अपने व्यस्त कार्य से कुछ समय धार्मिक कार्यक्रम में व्यतीत करने का आह्वान किया। इससे मन को शांति मिलती है और काम को और ऊर्जा के साथ करने की भावना जागृत होती है। उन्होंने आयोजन समिति की ओर से लगाए प्रदर्शनी का अवलोकन कर आयोजकों को बधाई दी।

सात दिन तक चले इस आयोजन में दिनभर श्रद्धालुओं की भीड़ लगी रही। दूर दराज से आए साधु संतों और ज्ञानियों ने मानव कर्तव्य के प्रति जागरूक करते हुए परमात्मा को पहचानने के लिए अपने मन को केंद्रीत करने पर जोर दिया। इसमें पर्यावरण, जीवन मूल्य, स्वास्थ्य, व्यसन मुक्ति सहित बच्चों को विभिन्न खेलों द्वारा शिक्षाएं दी गईं। राजयोग शिविर के साथ चैतन्य देवी झांकी एवं कुम्भकरण की आकर्षक झाकियां श्रद्धालुओं के लिए आकर्षण का केंद्र रहीं।