# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
अफसरों से जाति पूछ रही हरियाणा सरकार

चंडीगढ़: हरियााणा में एक बार फिर जा‍ति पर बखेड़ा खड़ा हो गया है। राज्‍य सरकार ने अधिकारियों से उनकी जाति बताने को कहा है। इससे सरकार और अफसरों में ठन गई है। जातीय अारक्षण पर उलझी सरकार ने अपने एचसीएच अफसरों से भी यह सवाल किया है। कई बार नोटिस के बाद 166 एचसीएस ने तो जानकरी दे दी, लेकिन 30 अफसर अपनी जाति बताने को तैयार नहीं हैं। कभी जातिवाद के लिए बदनाम रहे हरियाणा की अफसरशाही के इस रवैये से सवाल उठ रहे हैं कि क्‍या हरियाणा के अफसर जातिवाद से मुक्त हो गए हैं?

हरियाणा सरकार ने अपने 196 एचसीएस अधिकारियों से उनकी जाति पूछी है। हरियाणा सरकार ने हाई कोर्ट के आदेश के बाद अपने अफसरों से जाति बताने को कहा है। अब उनको अंतिम बार चेतावनी देते हुए दो दिन का अल्‍टीमेटम दिया गया है। 

हरियाणा में अधिकारियों पर जातिवाद का कितना असर रहा है, इसके लिए पिछले साल जाट आरक्षण आंदोलन का उदाहरण देना काफी हाेगा। आंदोलन के दौरान अफसरों पर एक खास जाति का हाेने के कारण हिंसा फैला रहे लोगों पर कार्रवाई में ढ़ील देने के आरोप लगे। यहां तक की सरकार ने इन अफसरों की भूमिका की जांच के लिए प्रकाश सिंह आयोग का गठन भी किया। आयोग की रिपोर्ट के बाद कई अफसरों पर कार्रवाई भी की गई, हालांकि बाद में इसे वापस भी ले लिया गया