# पाक PM के आरोप पर भारत का पलटवार-टेररिस्तान है पाकिस्तान         # मोदी का वाराणसी दौरा आज, 305 करोड़ से बने ट्रेड सेंटर का करेंगे इनॉगरेशन         # समुद्र में बढ़ेगा भारत का दबदबा, पहली स्कॉर्पिन पनडुब्बी तैयार         # रोहिंग्या विवाद के बीच म्यांमार को सैन्य साजो-सामान दे सकता है भारत         # चीन में सोशल मीडिया पर इस्लाम विरोधी शब्दों के प्रयोग पर लगी रोक         # परवेज मुशर्रफ का दावा-बेनजीर की हत्या के लिए उनके पति जरदारी जिम्मेदार          # भारत ने अफगानिस्तान में 116 सामुदायिक विकास परियोजनाओं की ली जिम्मेदारी         # जम्मू-कश्मीर में दो आतंकी गिरफ्तार, सशस्त्र सीमाबल पर किया था हमला        
News Description
2 दिन से खुले में मरी पड़ी हैं 6 गाय. देखभाल न होने से तोड़ रहे दम, आने लगी बदबू

महम.फरमाणा रोड स्थित गोशाला में दो दिन से आधा दर्जन गोवंश मृत पड़े हैं, लेकिन उन्हें जमीन में दबाने के लिए जुलाना स्थित हडवारे (जहां मृत पशुओं को लिया जाता है) के कर्मचारियों ने लेने से मना कर दिया। ऐसे में वक्त बीतने के साथ मृत गोवंश से बदबू आने लगी है। गोशाला में कार्य करने वाले कर्मचारियों का कहना है कि बदबू की वजह से गोशाला में काम करना मुश्किल हो रहा है।

कर्मचारियों का कहना है कि 15 दिन से लगातार गाय मर रही हैं। औसतन हर दिन 3 से 4 गोवंश दम तोड़ देते हैं। कर्मचारियों का कहना है कि मृत गोवंश को जुलाना हडवारे में ले जाया जाता था लेकिन पिछले 4 दिन से वे गोवंश नहीं ले रहे। उन्होंने बताया कि हडवारे के कर्मचारियों द्वारा मना करने के बाद 10 मृत गोवंश गोशाला के सामने खाली पड़ी जमीन पर दबाए गए। इसकी जानकारी बस्ती वालों को हुई तो उन्होंने इसका विरोध किया। विरोध करने के बाद पिछले दो दिन में जिन गोवंश ने दम तोड़ा वे फिलहाल गोशाला के अंदर ही खुले में पड़े हैं। इसकी वजह श्रीकृष्ण गोशाला के पास जमीन नहीं होना है। दरअसल, गोशाला बनाई गई है उसकी क्षमता केवल 500 गायों की है, लेकिन यहां अभी 1800 गोवंश रह रहे हैं। सही रख रखाव न होने की वजह से अधिकतर गोवंश आपसी लड़ाई में घायल हो जाते हैं। जो कमजोर हैं वे दम तोड़ देते हैं।
 
 
कार्यकारिणी में 28 सदस्य, नहीं मिल रहा सहयोग
गोशाला प्रधान धज्जाराम ने बताया कि गोशाला की कार्यकारिणी में 28 सदस्य हैं, लेकिन एक दो को छोड़कर अन्य से कोई सहयोग नहीं मिल रहा। गोवंश की संख्या क्षमता से तीन गुनी से भी ज्यादा है। ऐसे में लड़ाई व बीमारी के कारण इनकी मृत्यु होती है। गोशाला के पास खुद की कोई जमीन नहीं है। सामने गोवंश दबाए गए तो बस्ती वालों ने विरोध करना शुरू कर दिया। हडवारे वाले इन्हें ले नहीं रहे। मृत गोवंश को कहां दबाएं ये उनकी समझ में नहीं आ रहा। यदि प्रशासन उन्हें कोई जमीन दे तो इसका समाधान हो सकता है।
 
नपा की 8 एकड़ जमीन के लिए आश्वासन
महम हिसार बाईपास पर नगर पालिका की 8 एकड़ जमीन लेने के लिए गोशाला प्रधान व कार्यकारिणी सदस्य मंगलवार को एसडीएम से मिले। उनको समस्या से अवगत कराया गया। एसडीएम ने बाईपास पर पड़ी नगर पालिका की जमीन पर किया गया अवैध कब्जा हटवाकर उसे जल्द गोशाला को दिए जाने का आश्वासन दिया है।