News Description
विजुअल आ‌र्ट्स व गायन में झज्जर ने मारी बाजी

कुरुक्षेत्र : हरियाणा स्कूल परियोजना परिषद की ओर से आयोजित राज्यस्तरीय कला उत्सव का दूसरा दिन सांस्कृतिक गतिविधियों के नाम रहा। राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय के प्रांगण में विद्यार्थी विजुअल आ‌र्ट्स के प्रतिभागी रंगोली, मूर्ति आदि बनाते नजर आए तो सभागार के मुख्य मंच पर गायन व अभिनय कला के जौहर दिखाते। अधिकतर विधाओं में विद्यार्थियों ने केंद्र सरकार की मुहिम बेटी-बचाओ-बेटी पढ़ाओ के नारे को अपनी कलाओं के माध्यम से और बुलंद किया। सर्व शिक्षा अभियान के जिला समन्वयक अरुण आश्री के नेतृत्व में सभी टीमें अपने-अपने प्रबंधों में जुटी रही। समूह गायन प्रतियोगिता में झज्जर जिले की टीम ने बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ गीत गाकर पहला स्थान प्राप्त किया तो कैथल जिले की टीम सूण लो ध्यान लगाकै गीत के साथ दूसरे स्थान पर रही। हिसार जिले की टीम का गीत गंगा जी के प्यार मैं ने तीसरा स्थान प्राप्त किया। गायन प्रतियोगिता ने सभी 21 जिलों की टीमों ने भाग लिया। अधिकतर टीमों ने पारंपरिक वाद्ययंत्रों के साथ पारंपरिक वेषभूषा में गायन किया। ¨हद देश के निवासी, मेरी राम रटण की, घुमण चालो री हरियाणा, भगत ¨सह कदे जी घबरावै ना आदि भजनों व गीतों के माध्यम से विद्यार्थियों ने देशभक्तों को श्रद्धांजलि दी तथा प्रदेश की गौरव गाथा गाई। गायन के निर्णायक मंडल में संगीत विभाग के सहायक प्रोफेसर भूपेंद्र कुमार, पुष्पेंद्र व डॉ. सजीव शामिल थे।

जिला समन्वयक अरुण आश्री ने बताया कि विजूअल आर्टस में झज्जर की टीम ने सेंड आर्ट से बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ की कृति बनाकर पहला स्थान प्राप्त किया। इस स्पर्धा में हरियाणा दर्शन का दृश्य प्रस्तुत करने वाली कुरुक्षेत्र की टीम ने दूसरा तथा कैथल जिले की टीम ने तीसरा स्थान प्राप्त किया। इस स्पर्धा के निर्णायक मंडल में रोहतक के सहायक प्रोफेसर डॉ. दीपक कुमार, राकेश दास व डॉ. ज्योत्सना शामिल थीं। इस स्पर्धा में स्कूली बच्चों ने स्कूल प्रांगण में तीन घंटे की अवधि में अपनी-अपनी कृतियां बनाई। मिट्टी, रेत, घास-फूस की मदद से छात्रों ने हरियाणा के ग्रामीण जीवन को दर्शाने वाली कृतियां बनाई तो कईयों ने स्वच्छ भारत, एक भारत-श्रेष्ठ भारत की रंगोली बनाई। कृतियों के माध्यम से छात्रों ने ग्रामीण जीवन के साथ-साथ समाज जीवन के अनेक पहलूओं पर प्रकाश डाला। इसके अतिरिक्त देर शाम तक थियेटर व समूह नृत्य प्रतियोगिताएं जारी थीं। इस दौरान ¨प्रसीपल संतोष शर्मा, एपीसी सतबीर शर्मा, सुनील कौशिक, संजय कौशिक, कृष्णा कुमारी, जिला गणित विशेषज्ञ शिवचरण गुप्ता, विज्ञान विशेषज्ञ सुरेंद्र ¨सह, डॉ. राम मेहर अत्री, शिव कुमार, डॉ. ओमप्रकाश, गिरधारी शर्मा मौजूद रहे।