News Description
नहर की पटरी टूटी, सैकड़ों एकड़ गेहूं की फसल डूबी

गोहाना: गांव धनाना की सीमा के साथ रोहतक जिले के गांव चिड़ी के खेतों में काहनौर ब्रांच नहर की पटरी टूट गई। पटरी टूटने से गांव धनाना सहित गांव चिड़ी और नांदल के सैकड़ों एकड़ में गेहूं की फसल पानी में डूब गई। खेतों में करीब दो से ढाई फुट तक पानी भर गया है। किसानों का आरोप है कि ¨सचाई विभाग द्वारा समय पर नहर की सफाई नहीं करवाई गई और पानी ओवरफ्लो होने से पटरी टूट गई। गांव धनाना और नांदल के किसानों ने ¨सचाई विभाग के खिलाफ प्रदर्शन किया और प्रशासन से पानी में डूबी फसल की गिरदावरी कराने की मांग की।

सरपंच सतबीर शर्मा ने बताया कि ¨सचाई विभाग द्वारा समय पर नहर की सफाई नहीं करवाई गई। नहर की तलहटी में करीब डेढ़ फुट तक रेत जमा हो गया है। नहर में अंदर की तरफ पटरी पर झाडि़यां भी उगी हुई हैं। किसानों का आरोप है कि नहर का पानी ओवरफ्लो होने से पटरी की मिट्टी का कटाव हो गया। इससे पटरी टूट गई। किसान पन्ना लाल के अनुसार नहर की पटरी टूटने से गांव धनाना के खेतों में करीब 6 सौ एकड़ में दो से ढाई फुट तक पानी भर गया है। जिन खेतों में पानी भरा है उनमें अधिकतर किसानों ने गेहूं की फसल उगा रखी है। कुछ किसानों ने हरे चारे की फसल भी उगा रखी है। नहर के साथ जिन किसानों के खेत हैं उनमें रेत भी जमा होने से फसल पूरी तरह से खराब हो गई। गांव नांदल निवासी राजकपूर ने बताया कि उनके गांव के किसानों की भी करीब 200 एकड़ में गेहूं की फसल में पानी भर गया है। चिड़ी गांवों के किसानों के खेतों में भी पानी भरा है।

ग्रामीणों ने प्रशासन से प्रभावित फसलों की गिरदावरी करवा कर उचित मुआवजा देने की मांग की। इस मौके पर ग्रामीण पंडित काला, ईश्वर सैनी, माकड़ सैनी, ओम सैनी, पंडित रामफल और दीपक सैनी मौजूद रहे। बृहस्पतिवार को अधिकारियों ने जेसीबी मशीन मंगवा कर पटरी की मरम्मत करवाने का काम शुरू करवा दिया।