News Description
मजाक बनी मॉक ड्रिल : कहीं उठकर खड़े हुए मुर्दे तो कहीं दिखे बीड़ी पीते हुए

रोहतक. प्रदेशस्तरीय मॉकड्रिल के तहत अंबेडकर चौक स्थित मॉडल स्कूल में 10 बजे भूकंप आने का सायरन बजा। यहां पहले आधे घंटे तक तो अधिकारी प्लानिंग को लेकर ही उलझन में रहे। इसके बाद गंभीरता दिखाने की जगह माॅकड्रिल मजाक बनकर रह गई। मुर्दे का अभिनय कर रहे दो युवाओं को पीजीआई तक पहुंचना था। जब उनके ऊपर चादर डाली गई तो वे तुरंत उठकर खुद ही चल पड़े। पीछे से अन्य ने आवाज भी मारी, आप मरे हुए हो।

500 अधिकारियों, कर्मचारियों, रेडक्रॉस वालंटियर्स, एनएसएस, होमगार्ड, पुलिस, एनसीसी, चिकित्सकों, आर्मी व एनडीआरएफ की टीमों के मेम्बर्स ने मॉकड्रिल में हिस्सा लिया।15 एम्बुलेंस के अलावा क्रेन, फायर ब्रिगेड, कटर, ग्राइंडर आदि उपकरणों के साथ मॉकड्रिल की गई। 5 स्थानों पर 3-3 एंबुलेंस दी गई।

22 स्वास्थ्य टीमें रही तैनात।42 मौत और 145 घायल मॉकड्रिल के दौरान बताई गई।