# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
खेल मैदान पर नर्सिंग होम रूकवाने के लिए लोग लामबंद, मंत्री तक पहुंचा मामला

रोहतक: सेक्टर-1 स्थित जेएलएन नहर के निकट खाली पड़ी जमीन पर खेल मैदान का निर्माण कराने के लिए लोग लामबंद हो गए हैं। खेल मैदान के स्थान पर नर्सिंग होम के प्रस्ताव का मामला सहकारिता मंत्री तक पहुंच गया है। पार्षद से लेकर रेजीडेंट वेलफेयर एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने पूरे प्रकरण में उच्चाधिकारियों से वार्ता की है। सहकारिता मंत्री से भी आपत्ति जताई है कि पूरे प्रकरण में जांच कराई जाए। जिससे खेल मैदान के स्थान पर नर्सिंग होम के प्रस्ताव को खारिज कराया जा सके। उच्चाधिकारियों ने लिखित में आपत्तियां मांगी हैं।

सेक्टर-1 में प्रस्तावित खेल मैदान के निर्माण की राह में नर्सिंग होम का प्रस्ताव आने से खलबली मच गई है। सेक्टर वालों ने जेएलएन नहर के निकट खाली पड़ी जमीन पर खेल मैदान का निर्माण कराने के लिए वार्ड-9 के पार्षद बलराज बल्लू के साथ रेजीडेंट वेलफेयर एसोसिएशन भी एकजुट हो गई हैं। रेजीडेंट वेलफेयर एसोसिएशन के प्रधान कदम ¨सह अहलावत के नेतृत्व में एक प्रतिनिधि मंडल ने हुडा के प्रशासक वीरेंद्र ¨सह हुड्डा से मुलाकात की। इससे पहले प्रतिनिधि ने डिस्ट्रिक टाउन प्ला¨नग के अधिकारियों को इस प्रकरण में अवगत कराया।

आपत्ति जताते हुए कहा कि जिस स्थान पर खेल मैदान का निर्माण होना था, वहां नर्सिंग होम का प्रस्ताव किसकी शह पर तैयार हुआ, इसे लेकर भी नाराजगी जाहिर की। वहीं, हुडा के अधिकारियों ने इस प्रकरण में आश्वासन दिया है कि मुख्य प्रशासक तक मामला पहुंचाने का काम किया जाएगा। जिससे संबंधित स्थान पर खेल मैदान का ही निर्माण हो सके।